खुशखबरी: फैसले से पलटी सरकार, सेना को मिलता रहेगा फ्री राशन

नई दिल्ली (26 जुलाई): सैनिकों के लिए खुशखबरी है। सरकार ने अपने पहले के फैसले पर यूटर्न लेते हुए सैनिकों को फ्री में दिए जाने वाले राशन की सुविधा को फिर से शुरू करने का फैसला किया है। 7वें वेतन आयोग की सिफारिश लागू होने के बाद सरकार ने शांति-क्षेत्र यानी ‘पीस एरिया’ में तैनात सेना के अधिकारियों को फ्री-राशन बंद कर प्रतिदिन 96 रुपये देने का फैसला किया था।

सरकार के इस फैसले का बड़े पैमान पर सैनिक विरोध कर रहे थे और इसके लिए रक्षा सचिव को खत भी लिखा था। सैन्य अधिकारियों का तर्क है कि सेना की यूनिट्स अधिकतर पीस स्टेशन में ही युद्धभ्यास करती हैं। अधिकारियों का अधिकतर समय यहीं पर गुजरता है। ऐसे में अधिकारी कैसे अपना राशन खुद ढूंढ कर लाएंगे।

आपको बता दें कि सेना में पहले सभी जवानों, जेसीओ और अधिकारियों को कैलोरी के हिसाब से राशन मिलता था। ये नियम अशांत-क्षेत्र और शांति-क्षेत्र (यानि डिस्टर्ब एरिया और पीस-स्टेशन) के लिए लागू था। लेकिन सातवें वेतन आयोग की सिफारिश के बाद अब पीस स्टेशन में तैनात अधिकारियों को (लेफ्टिनेंट और कैप्टन से लेकर कर्नल-जनरल तक) 96 रूपये प्रति दिन के हिसाव से देने की बात कही गई थी। ये नियम 1 जुलाई से लागू हो गया था। 

एक अधिकारी को पहले 2400 कैलोरी प्रतिदिन के हिसाब से राशन मिलता था। इस हिसाब से प्रतिदिन करीब 750 मिली दूध, 50 ग्राम चीज़, 20 ग्राम मक्खन, दो अंडे, 260 ग्राम मीट, 450 ग्राम आटा, 170 ग्राम सब्जी, 230 ग्राम फल, 110 ग्राम आलू, 60 ग्राम प्याज, 150 ग्राम गैस मिलती थी.