आर्मी चीफ का बड़ा ऐलान, अब महिलाएं भी युद्ध के मैदान में दिखाएंगी अपना दम

नई दिल्ली (4 जून): आने वाले दिनों में भारतीय महिलाएं भी युद्ध के मैदान में अपनी जांबाजी दिखाती नजर आएंगी।  भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा कि महिलाओं को लड़ाकू की भूमिका में इजाजत देने की प्रक्रिया तेज की जा रही है। हालांकि शुरुआत में उन्हें मिलिट्री पुलिस के पदों पर अप्वाइंट किया जाएगा। पुरुषों के वर्चस्व को तोड़ने वाली सेना हो जाएगी। अगर ऐसा होता है तो भारतीय सेना दुनिया में जेंडर बैरियर तोड़ने वाली कुछ आर्मी में शुमार हो जाएगी।

गौरतलब है कि मौजूदा वक्त में आर्मी में महिलाओं को कुछ सिलेक्टेड एरिया में ही अप्वाइंट किया जाता है। इनमें मेडिकल, लीगल, एजुकेशनल, सिग्नल्स और इंजीनियरिंग विंग्स शामिल हैं। ऑपरेशनल और लॉजिस्टिकल मुद्दों की वजह से उन्हें कॉम्बैट रोल नहीं दिया जाता है।

जनरल रावत ने कहा कि महिलाओं को कॉम्बैट रोल में चुनौतियों का सामना करते हुए अपनी ताकत और दबदबा दिखाना होगा। मैं यह मामला सरकार के सामने रखूंगा। हम इसकी प्रॉसेस पहले ही शुरू कर चुके हैं।

आपको बता दें कि दुनिया में कुछ ही देश ऐसे हैं, जिन्होंने महिलाओं को जंग के मोर्चे पर जाने की इजाजत दे रखी है। इनमें जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, अमेरिका, ब्रिटेन, डेनमार्क, फिनलैंड, फ्रांस, नॉर्वे, स्वीडन और इजरायल शामिल हैं।