अब्दुल हमीद को श्रद्धांजलि देने गाजीपुर जाएंगे आर्मी चीफ, 65 की जंग में पाक के छुड़ाए थे छक्के

नई दिल्ली (9 सितंबर): आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत रविवार 10 सितम्बर को एक दिन के लिए उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जाएंगे। जनरल रावत गाजीपुर में 1965 की लड़ाई में शहीद परमवीर चक्र विजेता कम्पनी क्वार्टर मास्टर हवलदार अब्दुल हमीद को श्रद्धांजलि देने जा रहे हैं। 

बता दें जनवरी 2017 में आर्मी चीफ बनने के बाद शहीद की धर्मपत्नी रसूलन बीबी आर्मी चीफ रावत से मिली थीं और ये आग्रह किया था कि उनके जीते जी वो एक बार शहीद को श्रद्धांजलि देने के लिए उनके मेमोरियल आएं। हर साल 10 सितम्बर को शहीद अब्दुल हमीद का परिवर उनके लिए एक सभा का आयोजन करता है। शहीद परमवीर चक्र अब्दुल हमीद की पत्नी की वृद्धावस्था को देखते हुए जनरल रावत ने खुद गाजीपुर जाने का फैसला किया।

1965 की जंग में क्वार्टर मास्टर हवलदार अब्दुल हमीद साहस का प्रदर्शन करते हुए शहीद हो गए थे। इसके लिए उन्हें मरणोपरान्त भारत का सर्वोच्च सेना पुरस्कार परमवीर चक्र प्रदान किया था। 

10 सितम्बर 1965 को जब पाकिस्तान सेना अमृतसर को घेरकर उसको अपने नियंत्रण में लेने को तैयार थी, अब्दुल हमीद ने पाक सेना को अपने अभेद्य पैटन टैंकों के साथ आगे बढ़ते देखा। अपने प्राणों की चिंता न करते हुए अब्दुल हमीद ने अपनी तोप युक्त जीप को टीले के समीप खड़ा किया और गोले बरसाते हुए शत्रु के कई टैंक ध्वस्त कर डाले।