Blog single photo

'पहले 12 आतंकियों की लिस्ट बनाई फिर एक-एक कर किया सबका सफाया'

कश्मीर में सेना लगातार ऑपरेशन कर आतंकियों का खात्मा कर रही है। इस बीच आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ लगातार सफल ऑपरेशन हो पा रहे हैं क्योंकि लोग अब जानकारियां दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के युवा अच्छे पर भ्रमित हैं। आतंकी नावेद जट के मारे जाने पर उन्होंने कहा कि हमने 12 की जो लिस्ट निकाली थी, एक-एक कर सबको खत्म किया है, हमें लीडरशिप का खात्मा करना है। आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में ऑपरेशन ऑलआउट में बुधवार को खूंखार आतंकी नवीद जट को मार गिराया गया। वह पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या का मास्टरमाइंड था।

न्यूज 24 ब्यूरो,नई दिल्ली (28 नवंबर): कश्मीर में सेना लगातार ऑपरेशन कर आतंकियों का खात्मा कर रही है। इस बीच आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ लगातार सफल ऑपरेशन हो पा रहे हैं क्योंकि लोग अब जानकारियां दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के युवा अच्छे पर भ्रमित हैं। आतंकी नावेद जट के मारे जाने पर उन्होंने कहा कि हमने 12 की जो लिस्ट निकाली थी, एक-एक कर सबको खत्म किया है, हमें लीडरशिप का खात्मा करना है। आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में ऑपरेशन ऑलआउट में बुधवार को खूंखार आतंकी नवीद जट को मार गिराया गया। वह पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या का मास्टरमाइंड था।जम्मू-कश्मीर में लोगों के साथ भेदभाव के आरोपों पर सेना प्रमुख ने कहा  रैडिकलाइजेशन हो रहा है क्योंकि उनके पास करने को कुछ नहीं है। टीवी देखते हैं और फोन पर मेसेज देखते हैं। उन्होंने आगे कहा, 'बेरोजगारी पंजाब में भी है पर क्या वहां युवाओं ने बंदूकें उठा लीं? नहीं, कश्मीर में ये रैडिकलाइजेशन की वजह से हो रहा है।' उन्होंने कहा कि कश्मीर में पंचायत चुनाव सफल हुए, इससे साफ है कि लोग पंचायती राज चाहते हैं।उन्होंने कहा कि अंतिम संस्कार के समय हम लोगों का इकट्ठा होना कम कर रहे हैं, धीरे-धीरे कदम उठाए जा रहे हैं। जनरल रावत ने कहा कि हम अभी उस कश्मीर को देख रहे हैं, जो हमारे पास है इसका मतलब यह नहीं कि दूसरी तरफ से अपनी नजरें हटा लें। उन्होंने साफ कहा कि पहले हम अपने साथ वाले कश्मीर में सब ठीक कर लें फिर दूसरी तरफ देखेंगे।आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के जिक्र पर उन्होंने कहा कि कश्मीर में युवा आईएस के झंडे लहराते तो हैं पर उन्हें उनकी विचारधारा नहीं पता, वह इसलिए ऐसा करते हैं ताकि सिक्यॉरिटी फोर्सेज को उकसाया जा सके। उन्होंने कहा कि वास्तव में यहां के युवा भ्रमित हैं। सशस्त्र ड्रोन के इस्तेमाल के सवाल पर आर्मी चीफ ने कहा कि क्या हम कोलैटरल डैमेज के लिए तैयार हैं? क्या देश इसे स्वीकार कर लेगा? अगर हां तो इस्तेमाल किया जा सकता है।

Tags :

NEXT STORY
Top