चीन-पाक से तनाव के बीच केंद्र ने सेना को दिया हथियारों की खरीद का अधिकार

नई दिल्ली (13 जुलाई): सरहद पर चीन और पाकिस्तान लगातार भारत की मुश्किलें बढ़ता जा रहा है। सिक्किम में तनाव बढ़ता जा रहा है। डोकलाम में तकरीबन 4 सप्ताह से चीनी और भारतीय सेना आमने-सामने खड़ी है। वहीं पाकिस्तान LoC पर लगातार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर रहा है। इन दोनों देशों की ओर से बढ़ाए जा रहे तनाव के बीच सरकार ने सेना को छोटे और गहन युद्ध के लिए हथियारों की आकस्मिक खरीद की मंजूरी दे दी है। अब इस मंजूरी के बाद सेना गोला बारूद, हथियार और कई तरह के दूसरे सिस्‍टम भी खरीद सकेगी। इस खरीद के बाद सेना किसी भी पल युद्ध के लिए पूरी तरह से तैयार रहेगी।


सरकार की ओर से यह कदम युद्ध के लिए सेना की तैयारियों में आई खाली जगह को भरने के लिए उठाया गया है। सरकार के इस फैसले के बाद अब उप सेना प्रमुख के हथियारों को खरीदने के लिए सारी वित्‍तीय ताकत आ गई है। उप सेना प्रमुख गोला बारूद के अलावा 10 तरह के वेपेन सिस्‍टम के स्‍पेयर पार्ट्स और दूसरे अहम उपकरणों को खरीदने की मंजूरी दे सकेंगे। सरकार के इस फैसले के बाद खरीद की लंबी प्रक्रिया और लाल फीताशाही से भी छुटकारा मिल सकेगा।


रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी की ओर से कहा गया है कि खरीद के लिए कोई भी रकम सरकार की ओर से तय नहीं की गई है।