पुलिस ने छोले-भटूरे की दुकान चलाने वाले से पकड़े 49 लाख के पुराने नोट

नई दिल्ली ( 26 फरवरी ): मोदी सरकार ने 8 नवंबर 2016 को 500 और 1000 के पुराने नोटों पर बैन लगा दिया। उसके बाद से बड़ी मात्रा पुराने नोट पकड़े जा रहे हैं। इसी के तहत रविवार को दिल्ली के पंजाबी बाग में एक छोले-भटूरे की दुकान चलाने वाले युवक के पास से साहिबाबाद पुलिस ने 48.97 लाख के पुराने नोट जब्त किए हैं।

आरोपी कार चालक समेत तीन लोगों के साथ गाजियाबाद में नोट बदलने की फिराक में था। पुलिस ने मामले की जानकारी आयकर विभाग को दे दी है, लेकिन टीम जांच के लिए थाने नहीं पहुंची। इस दौरान पुलिस ने नोट को सील कर चारों आरोपी को थाने से ही जमानत दे दी। माना जा रहा है कि साहिबाबाद थाना क्षेत्र में नोटबंदी के बाद से कोई गिरोह लगातार काम कर रहा है। जो नोटबंदी के करीब 100 दिन बाद भी 60-70 प्रतिशत कमीशन पर धड़ल्ले से पुराने नोट को एक्सचेंज करा रहा है।

जानकारी के मुताबिक, पकड़े गए आरोपियों की पहचान पंजाबी बाग निवासी अंकुर, दिलशाद गार्डन निवासी रामनिवास, सीमापुरी निवासी सलीम और सूर्यनगर निवासी संजय के रूप में हुई है। पुलिस की जांच में पता चला है कि अंकुर पंजाबी बाग में छोले-भटूरे की दुकान चलाता था।

नोटबंदी के दौरान जांच से बचने के लिए उसने अपनी नोट को एक्सचेंज नहीं कराया था। इस दौरान उसने संजय और सलीम के साथ मिलकर गाजियाबाद में पुराने नोट को एक्सचेंज करने की योजना बनाई थी। हालांकि, पुलिस को यह पता नहीं चल सका है कि नोट किसके माध्यम से और कहां बदलवाए जाने थे।

साहिबाबाद के एसएचओ धींरेंद्र यादव के मुताबिक बरामद कैश में एक हजार के 3033 नोट और 500 के 37280 नोट है। सभी नोट को सील कर दिया गया है।