भारत में नहीं बनेगा आईफोन! एप्पल ने सरकार के सामने रखी यह शर्त

नई दिल्ली (29 दिसंबर): आईफोन बनाने वाली कंपनी एप्पल ने भारत सरकार के सामने कुछ शर्ते रखीं है, जिसे मानने के बाद ही वह यहां पर अपनी कंपनी स्थापित करने का फैसला लेगा। खबर के अनुसार, कंपनी लेबलिंग नियमों में भी ढील चाहती है। कंपनी चाहती है कि वह डिवाइस पर प्रॉडक्ट से जुड़ी कोई सूचना प्रिंट नहीं करेगी बल्कि यह फोन या टैबलेट के सॉफ्टवेयर के अंदर होगी।

इंडियन लेबलिंग नॉर्म्स के तहत प्रॉडक्ट पर इस तरह की जानकारी प्रिंट किए जाने की जरूरत होती है। कंपनी ने भारत में मैन्युफैक्चरिंग शुरू करने का इरादा जाहिर करने के बाद सरकार से छूट और इंसेंटिव भी मांग की थी। हालांकि एप्पल के इस अनुरोध को डिपार्टमेंट ऑफ रेवेन्यू और डिपार्टमेंट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (डीआईवाईटीवाई) के पास भेज दिया था।

एप्पल की पहचान उसके प्रॉडक्ट्स के बेहतर डिजाइन की वजह से है। कई देशों में वह अपने प्रॉडक्ट्स पर जो टेक्स्ट देती है, वह काफी कम होता है। हालांकि, भारत जैसे देश में इस बारे में विस्तार से जिक्र करना होता है। कंपनी ने कई तरह के टैक्स इंसेंटिव की भी मांग की है, जिसकी पड़ताल फाइनेंस मिनिस्ट्री कर रही है। लेबलिंग के मुद्दे को आईटी डिपार्टमेंट देखेगा।