Blog single photo

A. P. J. Abdul Kalam: ''सपने तभी सच होते हैं, जब हम सपने देखना शुरू करते हैं''

डॉ. कलाम का जीवन, समाज के अंतिम व्यक्ति के राष्ट्र का प्रथम नागरिक बनने की कहानी है। वे 15 अक्टूबर 1931 को पवित्र रामेश्वरम धाम की माटी में जन्में, पले, बढ़े

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (15 अक्टूबर):  भारत के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म आज के दिन यानी 15 oct को हुआ था। उन्हें लोग भारत के 'मिसाइल मैन' के रूप में भी जाना करते थे। वह भारत के 11 वें राष्ट्रपति थे और उनका कार्यकाल 2002 से 2007 तक का था। एपीजे अब्दुल कलाम जिन्हें 'भारत रत्न ’(1997) मिल चुका था, लोग उन्हें 'पीपल्स प्रेसिडेंट' भी कहा करते थे। कलाम के जीवन का हर पहलू सभी के लिए प्रेरणा है। पूर्व राष्ट्रपति ने यह भी साबित कर दिया था कि व्यक्ति अपने कार्यों और ज्ञान से महान बनता है, न कि गुण और धन से।

कलाम का व्यक्तित्व पूरी दुनिया के लोगों के लिए प्रेरणास्पद रहा है। वे जितने अच्छे वैज्ञानिक थे, उतने ही अच्छे इंसान। किसी को भी तकलीफ पहुंचाना उन्हें बिलकुल मंजूर नहीं था। चाहे इंसान हो या जानवर।

दरअसल ये हुआ कि एक डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) में उनकी टीम बिल्डिंग की सुरक्षा को लेकर चर्चा कर रही थी। टीम ने सुझाव दिया कि बिल्डिंग की दीवार पर कांच के टुकड़े लगा देने चाहिए। लेकिन डॉ कलाम ने टीम के इस सुझाव को ठुकरा दिया और कहा कि अगर हम ऐसा करेंगे तो इस दीवार पर पक्षी नहीं बैठेंगे।

वास्तव में डॉ. कलाम का जीवन, समाज के अंतिम व्यक्ति के राष्ट्र का प्रथम नागरिक बनने की कहानी है। वे 15 अक्टूबर 1931 को पवित्र रामेश्वरम धाम की माटी में जन्में, पले, बढ़े और समुद्र-सा विशाल और अगाध व्यक्तित्व ग्रहण करते गए। न अभाव उनकी रुकावट बने, न गरीबी उनकी बेड़ियां।

साल 1985, महीना सितंबर। त्रिशूल का परिक्षण। फरवरी 1988 में पृथ्वी और मई 1989 में अग्नि का परीक्षण किया गया। इसके बाद 1998 में रूस के साथ मिलकर भारत ने सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल बनाने पर काम शुरू किया और ब्रह्मोस प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना की गई। ब्रह्मोस धरती, आसमान और समुद्र कहीं से भी प्रक्षेपित किया जा सकता है। इस सफलता के बाद कलाम को मिसाइल मैन की ख्याति मिली। कलाम को पद्म विभूषण से सम्मानित भी किया गया।

Tags :

NEXT STORY
Top