उत्तर कोरिया कभी भी कर सकता है परमाणु हमला, जापान ने शुरू की बचने की तैयारी

दिल्ली ( 5 जून ): उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच चल रहे तनातानी के बीच जापान ने परमाणु हमले से बचने के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जॉन्ग उन पर परमाणु संपन्न राष्ट्र बनने की सनक सवार है जो पश्चिमी देशों समेत जापान के लिए मुसीबतें बढ़ा दी हैं। आशंका जताई जा रही है कि युद्ध की स्थिति में वह जापान पर मिसाइल हमला कर सकता है।

ऐसे में किसी भी संभावित मिसाइल हमले से बचने के लिए जापान ने इवैकुएशन ड्रिल (लोगों को निकालने की तैयारी) शुरू कर दी है। जापान के नौसेना और वायु सेना ने यूएस विमानवाहक पोतों के साथ जापान सागर में तीन दिवसीय संयुक्त सैन्य ड्रिल की शुरुआत की।

उत्तर कोरियाई बैलिस्टिक मिसाइल को जापानी क्षेत्र तक पहुंचने में 10 मिनट लगते हैं। जापान के अधिकारियों ने नागरिकों को सूचित किया है कि उन्हें देश पर मिसाइल हमला होने के 10 मिनट पहले सूचित किया जाएगा। इसलिए उन्हें हर समय तैयार रहना होगा और किसी भी संभावित हमले की स्थिति में खुद का बचाव भी करना होगा।

सरकार ने "सशस्त्र हमलों और आतंकवाद" से बचने के लिए एक गाइड भी प्रकाशित की है। ड्रिल में शामिल 280 लोगों को एक संभावित विनाशकारी मिसाइल हमले के बारे में सतर्क करने के लिए लाउडस्पीकर से सतर्क किया गया। वहीं, साइरन्स की आवाज से एक स्थानीय प्राथमिक विद्यालय के बाहर खेल रहे बच्चे चौंक गए।

यह ड्रिल वास्तविक हमले की स्थिति में आपातकालीन संचार के साधनों का परीक्षण करने के लिए की गई थी। इसका मकसद यह सुनिश्चित करना था कि हमले के दौरान सभी लोग एक सुरक्षित जगह तक पहुंच जाएं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक हमले का एक माहौल बनाया गया, जिसमें यामागुची प्रान्त के रॉकी इलाके में मिसाइल गिरने की स्थिति की कल्पना की गई थी, जहां करीब 3,400 लोग रहते हैं। यह एक्सरसाइज जापानी सरकार, अग्निशमन विभाग और आपदा प्रबंधन एजेंसी की ओर से की गई थी। इसके साथ ही इस ड्रिल में स्थानीय प्रशासन और शहर प्राधिकरणों के अधिकारी शामिल हुए थे।