बोले केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, पुल गिरने पर अधिकारियों पर हत्या का केस

नई दिल्ली ( 27 जुलाई ): केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार को बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा है कि अगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर कोई पुल गिरा तो उसके लिए अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाएगी और उन पर हत्या का मामला यानी धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया जाएगा। लोकसभा में सांसदों के पूरक सवालों का जवाब देते हुए गडकरी ने कहा कि कम लागत से पुराने पुलों में किस तरह से सुधार किया जाए, इस पर चर्चा चल रही है। लेकिन पुलों के मामले में किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

गडकरी ने पुलों के सर्वेक्षण की जानकारी देते हुए कहा कि 70 साल के शासन में भी किसी को यह पता ही नहीं था कि राष्ट्रीय राजमार्गों पर कुल पुल कितने हैं। मोदी सरकार ने आने के बाद इस दिशा में कवायद शुरू की और एक साल में हमने यह जानकारी जुटाई कि देश में कुल एक लाख 62 हजार 22 पुल हैं। गडकरी ने कहा कि इनमें से 147 पुल खराब हालत में हैं जबकि 50 पुल ऐसे हैं, जो एक सौ साल से भी पुराने हैं। इनमें से 23 की हालत खराब है। 

सरकार इन पुलों के लिए नई तकनीक का इस्तेमाल करने जा रही है और यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि किसी पुल की वजह से दुर्घटना न हो। अफसरों से भी कहा गया है कि अगर कोई पुल गिरा तो उसके लिए जिम्मेदारी तय होगी और अफसरों पर धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में सवित्री नदी पर भारी बारिश की वजह से एक पुल गिर गया था। उसकी जगह पर रेकॉर्ड 165 दिन में नया पुल तैयार किया गया।