"कांग्रेस बताए वह जान लेने वालों के साथ या देने वालों के साथ"

नई दिल्‍ली (24 फरवरी): जेएनयू विवाद को लेकर बीजेपी सांसद अनुराग ठाकुर ने लोकसभा में कहा कि कांग्रेस को यह तय करना होगा कि वह देश के लिए जान देने वालों के साथ है या देश के लोगों की जान लेने वालों के साथ है।

अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी पर हमला करते हुए कहा कि वह जेएनयू में देश द्रोही नारा लगाने वाले लोगों का समर्थन करने वहां पर गए, लेकिन इनकी पार्टी की तरफ से कोई भी व्‍यक्ति कैप्‍टन पवन कुमार के घर नहीं जाता। इन लोगों को बताना होगा कि यह अफजल गुरु को आतंकी मानते हैं या नहीं। उन्‍होंने कहा कि मेरे दादा जी सेना में रहे हैं और उन्‍होंने ही लोकसभा में वन रैंक वन पेंशन का मुद्दा सबसे पहले उठाया था, इसलिए सेना के प्रति मेरा सम्‍मान है।

जेएनयू में राहुल गांधी के जाने के मुद्दे को उठाते हुए अनुराग ने कहा कि वह वहां पर उन लोगों के साथ बैठे जिन्‍होंने छत्तीसगढ़ में मारे गए जवानों पर भी टिप्‍पणी की थी। कहा जा रहा है कि हम जेएनयू को खत्‍म करना चाहते हैं, लेकिन यहां पर मानव संसाधन विकास मंत्री बैठीं हैं जो यह बता सकती हैं कि हमने यूनिवर्सिटी को देने वाले फंड में कोई कमी की है या नहीं। उन्‍होंने कहा कि मैं यह जरूर कहूंगा कि टैक्‍स पेयर के पैसे को हम ऐसे लोगों को पर खर्च नहीं करेंगे।

जेएनयू में लगे देश विरोधी नारों पर बोलते हुए अनुराग ने कहा कि ऐसे नारे अभिव्‍यक्ति की आजादी हैं तो हम ऐसी आजादी नहीं देंगे। कांग्रेस के लोग बताए कि क्‍या वह फिर से संसद पर हमले कराना चाहती है। कांग्रेस कश्‍मीर की बात करती हैं लेकिन इन्‍होंने मुझे ही तिरंगा फराहने के लिए जेल में डाला।