द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर में गलत है ये तथ्य, सवाल से बचते नजर आए खेर

Photo: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (29 दिसंबर): इन दिनों द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर फिल्म विवादों में हैं। फिल्म संजय बारू की किताब पर आधारित बताई जा रही है, लेकिन फिल्म में ट्रेलर में कुछ ऐसी बातें हैं जो यह साफ बताती है कि इसमें गलत तथ्यों को दिखाया गया है। इस बारे में जब अभिनेता अनुपम खेर से पूछा तो वह भी जवाब नहीं दे पाए और कहा कि हम चैरिटी नहीं कर रहे हैं, हमने फिल्म बनाई है।

फिल्म 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल को लेकर बनाई गई है। गुरुवार को फिल्म का ट्रेलर लॉन्च किया गया था, लेकिन उसमें कुछ ऐसी बातें भी हैं जो यह सोचने पर मजबूर करती है कि आखिर यह संजय बारू की किताब से ज्यादा फिक्शन पर तो नहीं बनी। प्रेस कॉन्फ्रेस में फिल्म की पटकथा पर जब अनुपम खेर से सवाल पूछा गया तो वह भी असहज हो गए। उनसे पूछा गया कि ये फिल्म एक किताब पर बेस्ड है, लेकिन संजय बारू, प्रधानमंत्री कार्यालय में अक्टूबर 2008 तक ही थे जबकि ट्रेलर में एक जगह राहुल गांधी ऑर्डिनेंस फाड़ते दिख रहे हैं तो इसके अंदर कितना तथ्य है और कितना फिक्शन है, क्योंकि राहुल गांधी ने 2013 में ऑर्डिनेंस फाड़ा था?

अनुपम खेर ने इसका कोई सीधा जवाब नहीं देते हुए कहा, 'आपने फाड़ते देखा था कि नहीं देखा था। ये हिस्ट्री है, जिसे आप सभी ने दिखाया था। आप लोगों ने उसे हाई स्पीड में फाड़ते हुए दिखाया था। आप लोगों को नहीं पता कि वो फिल्म में कैसे आया। फिल्म देखिए, ट्रेलर देखकर हम पिक्चर पर कॉमेंट नहीं कर सकते।' उन्होंने कहा कि 'हम चैरिटी नहीं कर रहे हैं। हमने फिल्म बनाई है। हम चाहते हैं कि लोग फिल्म देखें। हम जब किसी को अपनी फोटो दिखाते हैं तो उसे हम अपनी बेस्ट तस्वीरें दिखाते हैं। हम 25 सेल्फी में से 1 ही अपलोड करते हैं, क्योंकि वो हमको अच्छी लगती है और हम चाहते हैं कि लोगों को वो पसंद आए। हम भी चाहते हैं कि लोग फिल्म देंखे और कहें वाह।'

बता दें कि फिल्म मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहाकार रहे संजय बारू की किताब पर आधारित बताई जा रही है। अक्षय खन्ना फिल्म में बारू का किरदार निभा रहे हैं। बारू की किताब जब आई थी, उस वक्त काफी राजनीतिक विवाद देखने को मिले थे।