पाक ने वीजा के लिए किया फोन, अनुपम बोले- अब नहीं जाऊंगा PAK

नई दिल्ली (3 फरवरी): कराची साहित्य सम्मेलन में भाग लेने के लिए जाने वाले अभिनेता अनुपम खेर को पाकिस्तान ने वीजा देने से मना कर दिया था, इसके बाद पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित ने उन्हें फोन करके वीजा ऑफर किया। लेकिन अनुपम ने पाकिस्तान जाने से मना कर दिया है। उन्होंने कहा कि उन्होंने अपनी डेट्स किसी और को दे दी है।

अनुपम खेर ने ट्वीट किया, 'मुझे कॉल करने और कराची का वीजा ऑफर करने के लिए शुक्रिया अब्दुल बासित जी। मैं इसकी सराहना करता हूं लेकिन बदकिस्मती से अब मैंने अपनी डेट्स किसी और को दे दी हैं।'

इससे पहले अनुपम ने बताया था कि 18 लोगों को जाना था, सत्रह को पाकिस्तान ने वीजा दिया सिर्फ अनुपम खेर को रोक दिया। पाकिस्तान हाई कमीशन ने सवाल उठाया कि अनुपम खेर ने एप्लाई ही नहीं किया था, जिसे अनुपम ने झूठ बताया।

अनुपम खेर ने कहा कि हो सकता है कि मैं हमेशा कश्मीरी पंडितों का मुद्दा उठाता हूं या फिर अपने पीएम की वकालत करता हूं, इसके कारण मुझे पाकिस्तान ने वीजा नहीं दिया। अनुपम खेर ने भारत सरकार से निवेदन की है कि वो पाकिस्तान से शांति वार्ता के बीच मेरे विषय को भी ध्यान में रखे। साथ ही ये भी कहा कि कली की कोई सीमाएं नहीं होतीं, दोस्ती की बातों के बीच मुझे वीजा ना देना एक स्पीड ब्रेकर है।

अनुपम खेर को पांच फरवरी को कराची साहित्य सम्मेलन में भाग लेने जाना था। अनुपम खेर के आरोपों पर पाकिस्तान हाई कमीशन ने सवाल उठाया। पाक हाई कमीशन ने कहा कि अनुपम खेर ने जब वीजा के लिए अप्लाई ही नहीं किया तो कहां से वीजा देते। जिसे अनुपम ने सफेद झूठ बताया। इसके बाद अनुपम खेर को पाकिस्तान से वीजा ना मिलने का मुद्दा असहिष्णुता की बहस में भी बदल गया। खुद अनुपम खेर ने भी ये सवाल उठाया।