अमेरिका में इस्लामिक-कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन


नई दिल्ली(12 जून): अमेरिका के कई स्टेट्स और शहरों में इस्लामिक कानून शरिया के खिलाफ लोगों ने विरोध प्रदर्शन निकाला। इन प्रदर्शनों को मुस्लिम-विरोधी बताया जा रहा है।


- मानवाधिकार संगठनों ने इन प्रदर्शनों की सख्त आलोचना की है। 'ऐक्ट फॉर अमेरिका' नाम के लोकप्रिय दक्षिणपंथी संगठन की अपील पर करीब 20 स्टेट्स के कम से कम 28 शहरों में लोगों ने इन प्रदर्शनों में हिस्सा लिया।


- अमेरिका की गैर-सरकारी कानूनी संस्था SPLC के मुताबिक, ऐक्ट फॉर अमेरिका एक कट्टरपंथी संगठन है। इसे अमेरिका का सबसे बड़ा मुस्लिम-विरोधी संगठन भी माना जाता है। ऐक्ट फॉर अमेरिका की नींव साल 2007 में रखी गई थी।


- संगठन का कहना है कि उसके 5 लाख से भी ज्यादा सदस्य हैं। यह संगठन डॉनल्ड ट्रंप का भी खूब समर्थन करता है। इस संगठन ने हाल के सालों में मुस्लिमों और शरणार्थियों के खिलाफ कड़े कानून बनाए जाने के लिए भी बढ़-चढ़कर अभियान चलाया है। एक ओर जहां ऐक्ट फॉर अमेरिका की अपील पर बड़ी संख्या में लोग शरिया कानूनों के खिलाफ विरोध करने सड़कों पर उतरे, तो वहीं कई शहरों में इन प्रदर्शनों के खिलाफ भी मार्च निकाला गया। कई जगहों पर दोनों तरफ के प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प भी हुई।


- ऐक्ट फॉर अमेरिका की वेबसाइट पर कहा गया है कि शरिया (इस्लामिक कानून) मानवाधिकारों व अमेरिकी कानूनों के खिलाफ है। खबरों के मुताबिक, इन शरिया-विरोधी प्रदर्शनों के खिलाफ उदारवादी ऐंटी-फासिस्ट संगठन ने भी अपना अलग मार्च निकाला। कुछ शहरों में दोनों पक्षों के बीच झड़प की भी खबरें हैं। स्थानीय मीडिया के अनुसार, ऐंटीफा ने 200 के करीब विरोध प्रदर्शनों का आयोजन किया।