अन्ना हजारे ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी, याद दिलाए अधूरे चुनावी वादे

नई दिल्ली (1 जनवरी): सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने चुनाव के समय किए वादों की याद दिलाते हुए कहा कि उन्हें उनकी सरकार और पूर्व की यूपीए सरकार के बीच कोई अंतर नजर नहीं आता।

रिपोर्ट के मुताबिक, अन्ना हजारे ने पीएम से कहा, कि मैंने इतना खत लिखा, वह सब कचरे के डब्बे में फेंक दिया गया। प्रधानमंत्री कुछ तो जवाब दीजिए। मेरे खतों का जवाब तो दो, आप काले धन को वापस लाने वाले थे जो कि अभी तक नहीं आ पाया है। ये मैं अपने लिए नहीं कर रहा हूं। कांग्रेस सरकार और आपकी सरकार भी भ्रष्टाचार को रोक नहीं पा रही है। आपने जनता को यह भी आश्वासन दिया कि हमारे देश का काला धन जो विदेशों में छुपा है, वह आप लेकर आएंगे। हर व्यक्ति के बैंक में 15 लाख जमा करेंगे। लेकिन आजतक किसी व्यक्ति के 15 लाख तो क्या 15 रुपये भी जमा नहीं हुए हैं।

अपने खत में नववर्ष के मौके पर पीएम मोदी को शुभकामनाएं देते हुए 78 वर्षीय भ्रष्टाचार विरोधी कार्यकर्ता ने तीन पन्नों में प्रधानमंत्री पर निशाना साधा। साथ ही लिखा कि वह काला धन वापस लाने और भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने जैसे 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान किए गए अपने वादे भूल गए हैं। खत प्रेस को शुक्रवार को जारी किया गया।