आंदोलन से जुड़ने के लिए अन्ना ने रखी शर्त, राजनीति में नहीं शामिल होने का देना होगा भरोसा

नई दिल्ली(17 जनवरी): समाजसेवी अन्ना हजारे ने कहा है कि अब उनके आंदोलन में सिर्फ वो ही लोग शामिल हो सकेंगे जो ये भरोसा दिलाएंगे कि वो भविष्य में पॉलिटिक्स ज्वॉइन नहीं करेंगे। 

- अन्ना के मुताबिक, इसके लिए इन लोगों को एक एफिडेविट साइन करना होगा। अन्ना हजारे ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को लेकर भी सख्त नाराजगी जाहिर की।

- अन्ना के करप्शन विरोधी आंदोलन के दौरान केजरीवाल उनके सबसे करीबी साथी रहे। अन्ना कई मौकों पर केजरीवाल को लेकर नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। 

- मीडिया से बातचीत के दौरान अन्ना ने एक बार फिर केजरीवाल की आलोचना की। कहा- अब जो एफिडेविट मैं साइन कराने जा रहा हूं। अगर वैसा ही पहले कराया होता तो आज केजरीवाल ना तो सीएम बन पाते और ना मिनिस्टर।

- अन्ना ने कहा- ऐसे लोग जिनका कैरेक्टर अच्छा होगा, समाज में इज्जत होगी और जो देश के लिए कुर्बानी देने को तैयार होंगे। वो लोग ही अब मेरे आंदोलन का हिस्सा बन पाएंगे। 

- अन्ना ने कहा- ऐसे लोगों को एक शपथ पत्र पर दस्तखत करने होंगे। इसमें साफ लिखा होगा कि वो भविष्य में किसी पॉलिटिकल पार्टी में शामिल नहीं होंगे। चुनाव नहीं लड़ेंगे। वो सिर्फ आंदोलन का हिस्स होंगे जो देश और समाज को एक नई दिशा देगा।

- अन्ना ने आगे कहा- मैं 23 मार्च को नई दिल्ली में एक रैली करूंगा। उन्होंने किसानों की हालत पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि इस देश में पिछले 22 साल में करीब 12 लाख किसान खुदकुशी कर चुके हैं। अब तक जितनी भी सरकारें आईं वो किसानों की परेशानियों को दूर नहीं कर सकी हैं। 

- अन्ना ने कहा कि वो हाल के कुछ दिनों में ओडिशा, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, असम, अरुणाचल प्रदेश, राजस्थान और कर्नाटक का दौरा कर चुके हैं। इस दौरान उन्होंने किसानों की समस्याएं जानने के लिए कई लोगों से बातचीत की।