केजरीवाल के खिलाफ जंतर-मंतर पर धरना देंगे अन्ना


नई दिल्ली (9 मई): दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर लग रहे भ्रष्टाचार के आरोप से सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे भी दुखी है। अन्ना हजारे ने कहा कि अगर केजरीवाल के खिलाफ आरोप अगर साबित हुये तो वह उनके इस्तीफे की मांग को लेकर धरने पर बैठेंगे।


हालांकि हजारे ने यह भी कहा कि दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने केजरीवाल के खिलाफ घूस के आरोप उन्हें मंत्री पद से हटाये जाने के बाद लगाये हैं। भष्ट्राचार के खिलाफ जंग छेडने वाले अन्ना ने कहा कि पूर्व मंत्री ने केजरीवाल के खिलाफ जो कुछ भी कहा वह सिर्फ मंत्री पद से हटाये जाने के बाद कहा। जब कथित तौर पर रुपयों का लेन-देन हुआ और वह मंत्री थे तो उन्होंने अधिकारियों को सचेत क्यों नहीं किया ?


अन्ना ने कहा कि मुझे लगता है कि इस मामले में पूरी जांच होनी चाहिये। अगर केजरीवाल दोषी पाये गये तो मैं खुद जंतर-मंतर पर धरने पर बैठूंगा और उनके इस्तीफे की मांग करुंगा। साथ ही उन्होंने कहा कि कोई भी मंत्री भ्रष्टाचार का दोषी पाया जाए तो उसे फांसी दे देनी चाहिए। अन्ना हजारे का यह बयान ऐसे समय में आया है जब आम आदमी पार्टी के नेता कपिल मिश्रा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं।


इससे पहले अन्ना हजारे ने कहा था अरविंद केजरीवाल के बारे में ऐसी खबरें देखकर दुख हो रहा है। अरविंद केजरीवाल ने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में अन्ना हजारे का साथ दिया था। अब अन्ना हजारे ने कहा है कि अगर अरविंद केजरीवाल के खिलाफ लगाए जा रहे आरोप सही हैं तो उन्होंने आंदोलन को चकनाचूर कर दिया है। जांच में तो सच सामने आ ही जाएगा। आप मंत्रिमंडल से बाहर होने के बाद कपिल मिश्रा ने केजरीवाल पर मंत्रिमंडल के एक अन्य सदस्य सत्येंद्र जैन से दो करोड़ रुपये लेने का आरोप लगाया है।