मिलोस राओनिच-एंडी मर्रे के बीच होगा विंबलडन फाइनल

 

लंदन (10 जुलाई) : विंबलडन में 14 साल में आज पहला मौका होगा जब रोज़र फेडरर, नोवाक जोकोविच या रफेल नडाल कोई फाइनल में नहीं खेल रहा होगा। ब्रिटेन के एंडी मर्रे की नजरें अपने दूसरे विम्बलडन खिताब पर होंगी जब वह यहां पहली बार फाइनल में पहुंचे कनाडा के मिलोस राओनिच से खेलेंगे।

मर्रे ने चेक गणराज्य के 10वीं वरीयता प्राप्त थामस बर्डीच को 6 -3, 6-3, 6-3 से हराकर फाइनल में प्रवेश किया जबकि राओनिच ने शुक्रवार (8 जुलाई) को रोजर फेडरर को 6-3, 6-7, 4-6, 7-5, 6-3 से हराकर उलटफेर किया।

इस हार के साथ फेडरर का रिकॉर्ड आठवां विम्बलडन और कैरियर का 18वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने का सपना टूट गया। पिछले 14 साल में पहली बार फेडरर, नोवाक जोकोविच या रफेल नडाल विम्बलडन फाइनल में नहीं होंगे।

मर्रे ने तीन साल पहले यहां खिताब जीता था और 1936 में फ्रेड पेरी के बाद विम्बलडन जीतने वाले पहले ब्रिटिश खिलाड़ी बने थे। ऑस्ट्रेलियाई ओपन और फ्रेंच ओपन फाइनल में जोकोविच से हारने वाले मर्रे इस बार फाइनल में हार का कलंक धोना चाहेंगे। राओनिच के खिलाफ उनके कैरियर का रिकॉर्ड 6.3 है ।