I-PAC के अनूठे अभियान टीडीपी के लिए बने चुनौती, आंध्र के चुनाव हुए YSRCP के पक्ष में


न्यूज24 ब्यूरो, हैदराबाद(18 फरवरी): इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी (आई-पीएसी) ने आंध्र प्रदेश में व्यापक अभियान छेड़कर वाईएसआरसीपी (वाईएसआर कांग्रेस पार्टी) के पक्ष में माहौल बनाना शुरु कर दिया है। आई-पीएसी ने 1 बूथ 10 यूथ कार्यक्रम चला कर बूथ लेवल पर लगभग पांच लाख कार्यकर्ताओं को वाईएसआर कांग्रेस के कैडर में शामिल किया है। मिली जानकारी के मुताबिक बूथ कैडर अभियान के तहत पार्टी अध्यक्ष जगन मोहन रेड्डी सभी तेरह जिलों के बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं से भेंट करेंगे और उनसे चुनावों के लिए जमीनी स्तर की जानकारी लेंगे। इस अभियान से टीडीपी नेताओं की पेशानी पर पसीना आ गया है। ऐसा माना जा रहा है कि आई-पीएसी के अभियान टीडीपी  के लिए चुनौती बन गये हैं और आंध्र के चुनाव वाईएसआरसीपी के पक्ष में जाते हुए दिखाई दे रहे हैं।


जगन मोहन रेड्डी इन कार्यकर्ताओं को चुनाव में उनकी भूमिका के बारे में जानकारी देंगे। जगन मोहन रेड्डी बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं से ये भी जानने का प्रयास करेंगे कि पार्टी नेतृत्व से उनकी क्या अपेक्षांए हैं। हालांकि इस तरह के तीन आयोजन तिरुपति, कडापा और अनन्तपुर में क्रमशः छह, सात और ग्यारह फरवरी को हो चुके है। इन मीटिंग्स में जगन मोहन रेड्डी ने लगभग 40 हजार बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। आंध्र प्रदेश में बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं के साथ इतने व्यापक स्तर पर संपर्क का यह पहला प्रयोग है। इस बूथ स्तरीय सम्मेलन में कार्यकर्ता जगन मोहन रेड्डी से सीधे अपने मन में उठ रहे सवाल कर सकते हैं या वो लिखित रूप में पार्टी को अपने सुझाव भी दे सकते हैं। 


जगनमोहन रेड्डी से मुलाकात के बाद बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं को पार्टी के निशान वाले स्टिकर्स भी दिये जायेंगे, जिन्हें घरों के दरवाजों पर चिपकाया जा सकता है। बूथ स्तरीय कार्यकर्ता संपर्क अभियान से पहले इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी ने वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के लिए प्रजा संकल्प यात्रा का सफल आयोजन किया था। इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी आंध्र प्रदेश में  बूथ कैडर मीटिंग जैसे कई और अभियान शुरु करने जा रही है जिनमें निन्नू नम्मम बाबू (वी डॉन्ट ट्रस्ट यू बाबू) और जगन अन्ना पिलुपु (जगन अन्ना इज कॉलिंग यू) प्रमुख हैं।


 इन सभी अभियानों का मकसद चुनावों के दौरान वाईएसआर कांग्रेस के लिए जनसमर्थन को इकट्ठा करना है। सूत्रों का कहना कि इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी ने अपने अभियानों को अभी तो युद्ध स्तर पर शुरू किया है, चुनावों के लिए उनके तरकश में अभी बहुत से तीर बाकी हैं।