रमजान के चलते AMU में हिंदु छात्रों को नहीं मिला रहा है खाना ?

अंशुल राघव, अलीगढ़ (31 मई): सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे गैर-मुस्लिम छात्र इन दिनों अजीब मुश्किल से गुजर रहे हैं। एएमयू के कई छात्रों ने सोशल मीडिया पर लखा है कि रमजान के महीने में यूनिवर्सिटी के ज्यादातर बॉय हॉस्टल्स में ब्रेकफास्ट और लंच बंद कर दिया गया है।


न्यूज 24 की टीम पहले AMU के सर सय्यद हॉल पहुंची और वहां हमने हकीकत जानने की कोशिश की। हॉस्टल का जो डाइनिंग हॉल आम दिनों में लंच के लिए छात्रों से भरा होता था, वहां खामोशी थी। आम दिनों में यहां सुबह सात से नौ बजे तक नास्ता और दोपहर बारह से ढाई बजे तक लंच होता था। पूछा तो पता चला कि रमजान के दिनों में सिर्फ सहरी और डिनर ही दिया जाता है।


यूनिवर्सिटी के इस फैसले ने गैर-मुस्लिम छात्रों को संकट में डाल दिया है। रमजान के दिनों में उनकी मजबूरी है कि या तो वो सुबह 3 बजे उठकर सेहरी के वक्त नाश्ता करें, या फिर बाहर खाएं। परेशान वो मुस्लिम छात्र भी हैं जो रोजा नहीं रखते।


इस मसले को लेकर जब हम AMU के वाइस चांसलर के पास पहुंचे तो रोजा नहीं रखने वालों के लिए नाश्ते के इंतजाम की व्यवस्था का भरोसा मिला, लेकिन यूनिवर्सिटी के पीआरओ ये बताना नहीं भूले कि रमजान में खाने की ये व्यवस्था यहां नई नहीं है।


हालांकि एएमयू के ही कुछ छात्रों ने सोशल मीडिया पर इसे कोरी अफवाह बताया है। एएमयू मैनेजमेंट का कहना है कि चूंकि ज्यादातर छात्र रोजा रखते हैं, इसलिए वो गैर-रोजेदारों को ऑन डिमांड खाना मुहैया करा रहे हैं।