अमृतसर रेल हादसा: नवजोत सिद्धू और उनकी पत्नी को क्लीनचिट

Image credit: Google

विशाल एंग्रीस, न्यूज 24, चंडीगढ़ (7 दिसंबर): पंजाब सरकार के सूत्रों के मुताबिक दशहरे के दिन अमृतसर में हुए रेल हादसे की 96 पन्नों की जांच रिपोर्ट जो 21 नवंबर को पंजाब सरकार को सौंपी गई थी उसमें नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्नी नवजोत कौर सिद्धू को क्लीन चिट दी गई है। जालंधर के डिविजनल कमिश्नर बी पुरुषार्थ ने ये जांच पूरी करके अपनी रिपोर्ट पंजाब सरकार को सौंपी थी और अब इस रिपोर्ट पर आगे क्या एक्शन लिया जाएगा ये खुद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह तय करेंगे।

Image credit: Google

इस रिपोर्ट में नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्नी नवजोत कौर सिद्धू को क्लीन चिट दी गई है। नवजोत सिंह सिद्धू के बारे में इस रिपोर्ट में लिखा गया है कि वो घटना के दिन अमृतसर में मौजूद ही नहीं थे।नवजोत कौर सिद्धू के बारे में लिखा गया है कि वो इस कार्यक्रम की चीफ गेस्ट थी लेकिन चीफ गेस्ट किसी भी वेन्यू पर जा कर ये चेक नहीं करता कि वहां किस तरह के इंतजाम है, ये आयोजकों को ही सुनिश्चित करना होता है।इस रिपोर्ट में नवजोत सिंह सिद्धू के करीबी और लोकल कांग्रेस पार्षद के बेटे सौरभ मिट्ठू मदान की भी गलती बताई गई है कि उन्होंने इस कार्यक्रम के लिए ना तो सही तरीके से तमाम विभागों से परमिशन ली और ना ही लोगों की सिक्योरिटी और सेफ्टी के लिए जरूरी कदम उठाए। रिपोर्ट में लिखा गया है कि आयोजकों ने जान-बूझकर इस दशहरे के कार्यक्रम को काफी देरी से शुरू किया और आयोजकों ने सिद्धू दंपति के नाम का फायदा उठाकर जरूरी विभागों से ना तो सही से परमिशन ली आयोजन की कई खामियों के साथ समझौता भी किया।

इस रिपोर्ट में स्थानीय प्रशासन की भी गलती बताई गई है कि स्थानीय प्रशासन ने परमिशन देने से पहले आयोजन स्थल पर सही इंतजाम है या नहीं इस बात को चेक नहीं किया।साथ ही स्थानीय नगर निगम और लोकल पुलिस ने भी उस वेन्यू पर हो रहे कार्यक्रम की तैयारियों को चेक नहीं किया और जब कार्यक्रम चल रहा था तब भी किसी पुलिस या नगर निगम कर्मचारी ने रेलवे ट्रैक पर खड़े लोगों को लेकर आपत्ति नहीं जताई। साथ ही इस रिपोर्ट में रेलवे ट्रैक के गेटमैन की भी गलती बताई गई है कि उसने भीड़ होने के बावजूद ट्रेन को धीमी गति से निकालने के लिए या रोकने के लिए सिग्नल नहीं दिया।इस रिपोर्ट में भविष्य में ऐसी घटना हो इसको लेकर कई तरह के गाइडलाइन बनाने का सुझाव भी दिया गया है। यह रिपोर्ट 21 नवंबर को पंजाब के होम सेक्रेट्री एन एस कलसी के पास सबमिट की गई थी और बुधवार को आगे का एक्शन लेने के लिए इस रिपोर्ट को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के ऑफिस में भेजा गया है। इस रिपोर्ट में  है कि नवजोत कौर सिद्धू और कैबिनेट मिनिस्टर नवजोत सिंह सिद्धू के नाम का इस्तेमाल करते हुए तमाम महकमों में NOC हासिल करने के लिए चिट्ठी भेजी गई और इसी आधार पर स्थानीय प्रशासन ने भी आनन-फानन में बिना आयोजन स्थल की जांच किए NOC जारी कर दी और कार्यक्रम की परमिशन दे दी।