Blog single photo

अमृतसर के निरंकारी भवन में बम फेंकने वाला आतंकी गिरफ्तार

पंजाब पुलिस के अमृतसर के अदलीवाल गांव के निरंकारी भवन में सत्संग के दौरान हुए हमले के मामले में पंजाब पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने बम फेंकने वाले आरोपी अवतार सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया की अवतार सिंह के पास से 32 बोर की पिस्तौल और 25 जिंदा कारतूस बरामद किये गए हैं। साथ ही डीजीपी ने बताया की मामले में पाकिस्तान के साथ-साथ इटली कनेक्शन भी निकला है। गिरफ्तार दूसरी हमलावर अवतार सिंह इटली के एक व्यक्ति से लगातार संपर्क में था।पुलिस को उम्मीद है कि पूछताछ में और भी कई बड़े खुलासे हो सकते हैं।

न्यूज 24 ब्यूरो,विशाल अंग्रीश,पंजाब (25 नवंबर): अमृतसर के अदलीवाल गांव के निरंकारी भवन में सत्संग के दौरान हुए हमले के मामले में पंजाब पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने बम फेंकने वाले आरोपी अवतार सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया की अवतार सिंह के पास से 32 बोर की  पिस्तौल और 25 जिंदा कारतूस बरामद किये गए हैं। साथ ही डीजीपी ने बताया की मामले में पाकिस्तान के साथ-साथ इटली कनेक्शन भी निकला है। गिरफ्तार दूसरी हमलावर अवतार सिंह इटली के एक व्यक्ति से लगातार संपर्क में था।पुलिस को उम्मीद है कि पूछताछ में और भी कई बड़े खुलासे हो सकते हैं।

इससे पूर्व दो दिन पहले मामले के एक आरोपित विक्रमजीत सिंह को गिरफ्तार किया जा चुका है। विक्रमजीत की गिरफ्तारी के बाद मुख्‍यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि यह आतंकी हमला था आैर अाइएसअाइ ने केएलएफ (खालिस्‍तान लिब्रेशन फाेर्स) से कराया था। यह ग्रेनेड हमला पंजाब दो युवकों से कराया गया था। पहले पकड़ा गया आरोपित विक्रमजीत सिंह बांदा धारीवाल गांव रहने वाला है, जबकि अब गिरफ्तार किया गया आरोपित अवतार सिंह चकमिस्रीखान लोपोके का रहने वाला है। दोनों ट्रेंड आतंकी नहीं है। इनको बम की लोकेशन बताई गई थी। बम एक पेड़ के नीचे रखा गया था। निरंकारी भवन सॉफ्ट टारगेट था।

विक्रमजीत की गिरफ्तारी के बाद सीएम ने कहा था कि पंजाब में पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ बहुत एक्टिव है और इस हमले में भी उसका हाथ है। हमले में इस्‍तेमाल किया गया हैंड ग्रैंनेड पाकिस्तान का था। पुलिस हमले में प्रयुक्त मोटरसाइकिल को पहले ही रिकवर कर चुकी है।उन्‍होंने कहा कि विक्रमजीत सिंह मोटरसाइकिल चला रहा था। ग्रेनेड अवतार ने फेंका था। इन दोनों का पहले से कोई आपराधिक पृष्ठभूमि नहीं थी। इसी कारण इनका इस्‍तेमाल किया गया। इन्होंने यह पहली वारदात की है। इन युवकों को कितना पैसा दिया गया। ये अभी जांच का विषय है।अवतार सिंह को सात दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है।

बता दें की रविवार को अदलीवाल गांव स्थित निरंकारी भवन में चल रहे सत्‍संग पर ग्रेनेड फेंका गया था। इससे हुए धमाके में तीन लोगों की मौत हो गई आैर करीब 20 लोग घायल हो गए। ग्रेनेड हमले में पाकिस्तान निर्मित ग्रेनेड का इस्तेमाल किया गया था।

Tags :

NEXT STORY
Top