अमृतसर हैंड ग्रेनेड हमले की गुत्थी सुलझी, हरमीत नाम का आतंकी पकड़ा: सूत्र

न्यूज 24 ब्यूरो, विशाल एंग्रीश, चंडीगढ़  (21 नवंबर): सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पंजाब पुलिस ने अमृतसर हैंड ग्रेनेड हमले में एक युवक को गिरफ्तार करते हुए गुत्थी को सुलझा लिया है। इस मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पंजाब बीजेपी नेता सुरेश अरोड़ा के एक साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करके मामले का खुलासा करेंगे।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, हैंड ग्रेनेड हमले के पीछे खालिस्तानी आतंकी हरमीत सिंह हैप्पी उर्फ पीएचडी है। पाकिस्तान में छिपकर बैठे हरमीत सिंह हैप्पी उर्फ पीएचडी ने लोकल लड़कों की मदद से ग्रेनेड अटैक करवाया था। पंजाब पुलिस ने एक लोकल युवक को हिरासत में लिया है, जिसने निरंकारी समागम स्थल पर हैंड ग्रेनेड फेकने की बात कबूली है।

हैंड ग्रेनेड अटैक के लिए पैसा और ग्रेनेड पाकिस्तान में बैठे खालिस्तानी आतंकी हरमीत सिंह उर्फ पीएचडी ने मुहैया करवाया था। पटियाला से कुछ दिन पहले पकड़े गए खालिस्तान गदर फोर्स के आतंकी शबनम दीप सिंह ने इसके लिए स्लीपर सेल के माध्यम से इन दो लड़कों को बरगला कर अपने साथ जोड़ा था। शबनम दीप सिंह ने गरीब लड़कों को खालिस्तान के नाम पर बरगला करके उनको चंद हजार रुपए देकर हैंड ग्रेनेड फेंकने के लिए तैयार किया था और ट्रेनिंग भी दी थी।

रविवार को हुआ था हमला
गौरतलब है कि रविवार को हुए हमले में 3 लोगों की मौत हो गई, जबकि 20 अन्य घायल हुए थे। यह ग्रेनेड हमला अमृतसर से करीब 15 किलोमीटर दूर स्थित आदिलवाल गांव में निरंकारी पंथ के सत्संग भवन में हुआ था। पुलिस सूत्रों ने इस हमले के पीछे खालिस्तानी समर्थकों का हाथ बताया, जबकि ISI कनेक्शन भी सामने आया था। ISI की शह पर कश्मीर के आतंकी संगठनों के साथ पाकिस्तान में छिपकर बैठे खालिस्तानी आतंकियों ने इस नेक्सैस को तैयार किया। बताया जा रहा है कि इस हमले के लिए विदेश से फंडिंग हुई है, जिसकी मदद से ही आईएसआई के स्लीपर सेल ने स्थानीय लड़कों को हैंड ग्रेनेड मुहैया कराई गई।