सेनाध्यक्ष पर दिए शर्मनाक बयान पर फुल्का ने मांगी माफी, कांग्रेस ने बताया मानसिक दिवालिया


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 नवंबर): आर्मी चीफ पर दिए अपने शर्मनाक बयान के लिए आम आदमी पार्टी के नेता और वरिष्ठ वकील एच एस फुल्का ने माफी मांग ली है। फुल्का ने अपनी सफाई में कहा है कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया। उन्होंने कहा कि मेरा बयान कांग्रेस के खिलाफ था, ना कि सेना प्रमुख के खिलाफ था। आपको बता दें कि पंजाब के आम आदमी पार्टी के विधायक और विधानसभा में विपक्ष के नेता रहे एचएस फुल्का ने अमृतसर में निरंकारी समागम में हुए आतंकी हमले के लिए सेनाध्यक्ष बिपिन रावत को जिम्मेदार बता दिया था। उन्होंने कहा था कि, 'सेनाध्यक्ष बिपिन रावत पंजाब में आकर बोल गए थे कि राज्य पर आतंकी हमले का खतरा है।  हो सकता है कि उन्होंने ही अपने लोगों से ब्लास्ट करवाया हो ताकि उनका बयान गलत साबित ना हो।' जिसके चलते एचएस फुल्का ने कहा कि ये मुमकिन है कि अपने बयान को सही साबित करने के लिए सेना अध्यक्ष ने खुद ही हमला करवा दिया हो। एचएस फुल्का ने ये भी कहा कि पिछली सरकारें भी चुनाव के वक्त ऐसा करती आईं हैं।


वहीं आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने  एचएस फुल्का का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि एचएस फुल्का ने अपने बयान पर अफसोस जाहिर किया है। उन्हें ऐसे कॉमेंट करके बदनाम नहीं करना चाहिए। 84 के दंगों के खिलाफ वह 35 साल से लड़ रहे हैं, उन्हें इसका क्रेडिट दिया जाना चाहिए। 


उधर कांग्रेस ने फुल्का के बयान को मानसिक दिवालिया करार दिया है। पंजाब कांग्रेस के प्रवक्ता राजकुमार वेरका ने कड़ी निंदा की है। उन्होंने फुल्का को मानसिक दिवालिया बताते हुए कहा कि हमारे देश के आर्मी चीफ और सैनिक हमारी शान हैं और उनके बारे में इस तरह का बयान देकर उन्होंने सेना का अपमान किया है।


आपको बता दें कि अमृतसर के एक गांव में रविवार सुबह एक धमाका हुआ। इस धमाके में 3 की मौत हो गई है। वहीं 22 लोग घायल हो गए। घायलों में कई लोगों की हालत गंभीर है। मामले की जांच में राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी एनआईए जुट गई है। चश्मदीदों के मुताबिक बाइक सवार दो लड़कों ने अमृतसर के राजासांसी गांव में निरंकारी भवन पर ग्रेनेड फेंका। युवकों ने सत्संग के दौरान ग्रेनेड फेंका। जिस समय ग्रेनेड फेंका गया उस समय वहां करीब 250 लोग मौजूद थे। राजासांसी गांव सीमा से सटा गांव है। धमाके के बाद राजधानी दिल्ली और नोएडा की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।