सैम पित्रोदा के बयान पर अमित शाह ने राहुल गांधी को घेरा, कहा- देश की जनता और सेना से माफी मांगे

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 मार्च): पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सैम पित्रोदा के बयान पर बीजेपी का आक्रमक रूख लगातार दूसरे दिन आज भी जारी है। इसी कड़ी में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि देश जब आम चुनाव की ओर तेजी से बढ़ रहा है औरदेश के मतदाताओं में राष्ट्र सुरक्षा का मुद्दा अहम बना हुआ है। ऐसे समय में जो कल कांग्रेस के विदेशी मामलों के प्रभारी सैम पित्रोदा का बयान आया, वह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष को सैम पित्रोदा के बयान पर शहीदों के परिवारों और जनता से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सिर्फ किनारा करने से कुछ नहीं होगा। देश की जनता उनकी नीति को समझती है और इसीलिए उसने कांग्रेस को ही किनारे लगा दिया है। शाह ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'कांग्रेस पार्टी के विदेश विभाग के कोऑर्डिनेटर और चुनाव घोषणा पत्र समिति के सदस्य सैम पित्रोदा का जो बयान आया, वह काफी चिंताओं को जन्म देने वाला है।'

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि केंद्र में भाजपा सरकार बनने के बाद हमने आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति को अपनाया है और हम डटकर आतंकवाद के खिलाफ खड़े हैं. यूपीए शासनकाल में कई बम धमाके देश भर में हुए और आपकी पालिसी की तहत बातचीत का रास्ता अपनाया और क्या परिणाम निकला? इसका भी जवाब कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष को देश की जनता के सामने देना चाहिए. मोदी सरकार की कूटनीतिक सफलता का ही परिणाम है कि जब हमारे जवान सफल एयर स्ट्राइक करके वापस आये और पाकिस्तान ने दुनिया में कोहराम मचाना शुरू किया तो उस वक़्त भी पूरी दुनिया भारत के साथ खड़ी थी और पाकिस्तान अलग थलग पड़ गया

अमित शाह ने कांग्रेस से सवाल पूछते हुए कहा कि क्या कांग्रेस पार्टी पुलवामा जैसे जघन्य हमले को जो देश की जनता को झंकझोर कर रख देते हैं, उसको आप सामान्य घटना मानते हैं? कुछ लोगों की हरकतों से किसी देश को दोषी नहीं मानना चाहिए, क्या कांग्रेस पार्टी मानती है कि जो आतंकवादी घटनाएं होती हैं इसका पाकिस्तान से संबंध है या नहीं इसको पहले स्पष्ट करो. अगर रिश्ता है तो दोषी कौन? आतंकवादी हमले का जवाब सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक से नहीं देना चाहिए, बातचीत से देना चाहिए, क्या ये कांग्रेस पार्टी की आतंकवाद को डील करने की नीति अधिकृत है क्या? जब देश के इस प्रकार के आतंकी हमले होते हैं, देश के नागरिक हताहत होते हैं, देश के जवान शहीद होते हैं और कांग्रेस पार्टी और उनके पदाधिकारी बातचीत का रास्ता सुझाते हैं, इससे कांग्रेंस पार्टी सहमत है क्या?