6500 करोड़ में बना दुनिया का सबसे महंगा दूतावास, जानें क्या है खास

नई दिल्ली ( 23 सितंबर ): दूसरे देशों में स्थित अपने दूतावासों को लेकर सभी देश गंभीर होते हैं और उसकी सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं। लेकिन अमेरिका अब अपने दूतावासों की सुरक्षा को लेकर काफी गंभीर हो गया है। इसी के तहत लंदन में वह अपने दूतावास के लिए बहुत ही सुरक्षित इमारत का निर्माण करा रहा है। यह इमारत निर्माणाधीन है पर अभी से ही दुनिया का सबसे महंगा दूतावास बन गया है। आतंकी हमलों से दूतावास के लोगों की रक्षा के लिए एक मोट बनाया जा रहा है, जो एक तरह का छोटा मगर गहरा तालाब होगा। इसकी तस्वीरें भी सामने आई हैं। 

मोट ठीक वैसा ही है, जैसे राजा-महाराजा अपने किले या महलों की सुरक्षा के लिए गहरी खाई खुदवाते थे। यही नहीं, इस इमारत पर बम का कोई असर नहीं होगा। चारों ओर एक मेटल बैरियर भी होगा। दावा किया जा रहा है कि लंदन स्थित इस अमेरिकी दूतावास में घुस पाना आतंकवादियों के लिए असंभव होगा। इस नए हाई-टेक दूतावास में 100 फीट का अर्द्धचंद्र के आकार का यह मोट किसी भी हमले से इमारत में मौजूद लोगों की सुरक्षा करेगा। हालांकि अमेरिकी अधिकारी इसे 'वॉटर फीचर' बता रहे हैं। 

दूतावास लंदन के नाइन एल्म्स इलाके में बनाया जा रहा है। इस पर अब तक 1 अरब डॉलर (करीब 6500 करोड़ रुपये) से ज्यादा खर्च हो चुके हैं और निर्माण कार्य की रफ्तार भी धीमी है। टेम्स नदी के दक्षिणी छोर पर अमेरिका का यह नया दूतावास स्थित होगा। इमारत की दीवार पर चारों तरफ से फोटोवॉल्टेक सेल लगे होंगे, जो सूरज की रोशनी को ऊर्जा में बदल देंगे। ऐसी व्यवस्था होगी कि इमारत का तापमान कम रहे। दूतावास में ही दुकानें, होटेल, रेस्तरां और कई दफ्तर होंगे। जाने माने अमेरिकन आर्किटेक्ट केरन टिंबरलेक को इस कार्बन-न्यूट्रल स्ट्रक्चर की डिजाइन के लिए चुना गया है।