चीन को सबक सिखाएगा अमेरिका, बनाया ये नया प्लान


वाशिंगटन (2 अगस्त): अपने उल्टे-सीधे कामों के कारण चीन दुनिया को चुभने लगा है। वह भारत से लेकर अमेरिका तक से पंगे ले रहा है। ऐसे में अमेरिका के राष्‍ट्रपति ट्रंप ने ड्रैगन पर शिंकजा कसने के लिए नया प्लान तैयार किया है। अब चीन से निपटने के लिए ट्रंप प्रशासन को व्यापार कानून के एक प्रावधान का साहार लेना पड़ेगा।

द वॉल स्ट्रीट जर्नल के मुताबिक, 'प्रशासन अपने कानूनी प्रावधानों से यह जांच करेगा कि चीन की इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी पॉलिसी में व्यापार करने के अनुचित तरीके शामिल तो नहीं।' अमेरिका के ट्रेड ऐक्ट ऑफ 1974 के तहत अमेरिकी राष्ट्रपति के पास यह अधिकार है कि अगर कोई देश व्यापार के गलत तरीकों (अनफेअर ट्रेड प्रेक्टिस) से अमेरिकी बाजार को नुकसान पहुंचाता है तो राष्ट्रपति उस पर टैरिफ और अन्य प्रतिबंध लगा सकता है। इस प्रावधान के इस्तेमाल से अमेरिका चीनी निर्यातकों पर सैंक्शन लगा सकेगा। इस तरह से अमेरिकी टेक्नॉलजी को चीन जाने से भी रोका जा सकेगा।

वॉल स्ट्रीट के मुताबिक पिछले कई साल में चीन के व्यापार और मार्केट तक पहुंच के प्रति अमेरिकी व्यापारियों में गुस्सा है। व्यापारी अमेरिकी सरकार से चीन की व्यापारिक गतिविधियों के प्रति कड़ा कदम उठाने की मांग कर रहे हैं। वॉल स्ट्रीट का कहना है कि कई संगठनों ने यह शिकायत की है कि ट्रंप प्रशासन ने इंटलेक्चुअल प्रॉप्रटी जैसे क्षेत्रों पर कोई ध्यान नहीं दिया है। उनका आरोप है कि सरकार का ध्यान चीन और अमेरिका के बीच पिछले साल हुए 347 बिलियन ट्रेड सर्पलस पर है।