अमेरिका के इस बयान के बाद चीन और पाकिस्तान ने फिर मुंह की खायी...

नई दिल्ली (1 जुलाई):  अमेरिका ने भारत को एनएसजी का  सदस्यता न मिलने पर निराशा जतायी है और कहा है कि वह 48 देशों के परमाणु व्यापार ब्लॉक में भारत को शामिल करने के लिये रचनात्मक रूप से काम करना जारी रखेगा। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने संवाददाताओं से कहा,हम इस बात को जाने नहीं देंगे। उन्होंने कहा, निश्चित तौर पर हम इस बात को लेकर निराश हैं कि भारत को मौजूदा सत्र में शामिल नहीं किया गया। अमेरिका के इस बयान के बाद चीन और पाकिस्तान को एक बार फिर मुंह की खानी पड़ गयी है। हालांकि, चीन का प्रयास है कि मौजूदा साल में एनएसजी की बैठक ही न हो, लेकिन अमेरिका ने एनएसजी की विशेष बैठक के लिए माहौल बनाना शुरु कर दिया है।  

किर्बी ने कहा कि लेकिन मैं आपको बता सकता हूं कि हम आने वाले महीनों में भारत को इसमें शामिल कराने के लिए भारत और अन्य एनएसजी सदस्यों के साथ मिलकर रचनात्मक रूप से काम करना जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि भारत का रिकॉर्ड मजबूत है और अमेरिका का मानना है कि वह एनएसजी में शामिल किए जाने का हकदार है। किर्बी ने कहा, इसीलिए व्हाइट हाउस एवं विदेश मंत्रालय के अधिकारियों समेत प्रशासन ने ठोस प्रयास किए हैं।