वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर के अमेरिका में बाद दूसरा सबसे बड़ा आतंकी हमला, 8 की मौत

न्‍यूयॉर्क (1 नवंबर): 11 सिंतबर 2001 में वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर पर हुए आतंकी हमले के बाद अमेरिका पर दूसरा सबसे बड़ा आंतकी हमला हुआ है। न्यूयॉर्क में वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर मेमोरियल के पास हुए आतंकी हमले में 8 लोग मारे गए। न्यूयॉर्क के लोअर मैनहट्टन में मंगलवार दोपहर एक ट्रक सवार ने साइकिल और पैदल पथ पर लोगों को रौंदना शुरू कर दिया। इस घटना में 8 लोगों की मौत हो गई जबकि 10 से ज्यादा लोगों के घायल हो गए हैं।  पुलिस ने संदिग्ध को हिरासत में ले लिया है। आरोपी के पास से 2 नकली बंदूक भी बरामद हुई हैं। न्यूयॉर्क पुलिस ने इलाके को कब्जे में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है। अमेरिका ने इसे आतंकी हमला करार दिया है।

हमलावर उजबेकिस्तान का बताया जा रहा है. वह उबर के लिए ड्राइवर के रूप में काम कर रहा था. हैलोवीन परेड के लिए इन मैनहट्टन इलाके में विदेशी सैलानी बड़ी संख्या में आए हुए हैं. भीड़-भाड़ वाले समय में अचानक ट्रक साइकिल और पैदल लेन में लोगों को रौंदता हुआ आगे बढ़ने लगा. ट्रक ने अपनी चपेट में एक स्कूल बस को भी लिया जिसमें 3 बच्चे सवार थे। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता ने बताया कि राष्ट्रपति ट्रंप को इस घटना की जानकारी दे दी गई है और लगातार उन्हें इसका विस्तृत ब्यौरा दिया जा रहा है। यह घटना लोअर मैनहटन की है जहां से वर्ल्ड ट्रेड सेंटर मेमोरियल काफी नजदीक है। न्यूयार्क के मेयर ने इसे 'आतंकी कार्रवाई' बताया है।

In NYC, looks like another attack by a very sick and deranged person. Law enforcement is following this closely. NOT IN THE U.S.A.!

— Donald J. Trump (@realDonaldTrump) October 31, 2017

We must not allow ISIS to return, or enter, our country after defeating them in the Middle East and elsewhere. Enough!

— Donald J. Trump (@realDonaldTrump) October 31, 2017

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हमले की निंदा करते हुए ट्वीट किया, 'न्यूयॉर्क में एक बीमार किस्म के आदमी ने हमला किया, सुरक्षा एजेंसिया इसपर अपनी नजरें बनाए हुए हैं'। ट्रंप ने ट्वीट किया, 'मीडिल ईस्ट में हराने के बाद अब ISIS को वापस नहीं आने देंगे और न ही अमेरिका में घुसने देंगे'। राष्ट्रपति ट्रंप हमले में मारे गए लोगों के प्रति अपनी संवेदना भी जाहिर की है।