राफेल लड़ाकू विमानों के लिए तैयार किए जा रहे हैं अंबाला, हासिमारा वायुसेना अड्डे

नई दिल्ली(1 अक्टूबर): भारतीय वायुसेना ने राफेल फाइटर जेट विमानों की पहली स्क्वाड्रन की तैनाती के लिए अपने अग्रिम पंक्ति के बड़े अड्डों को उन्नत बनाने का काम आरंभ कर दिया है।

- वायुसेना के एक अधिकारी ने बताया कि सरकार ने राफेल विमानों के लिए 78 साल पुराने अड्डे पर 14 शेल्टर, हैंगर और रखरखाव की सुविधाएं स्थापित करने के लिए पहले ही 220 करोड़ रूपये की स्वीकृति प्रदान की है। राफेल विमानों की आपूर्ति सितंबर, 2019 से आरंभ होगी।

- अंबाला स्थित यह वायुसैना अड्डा रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण स्थान पर स्थित अड्डों में से एक है। यह भारत-पाक सीमा पर करीब 220 किलोमीटर दूर है। फिलहाल इस अड्डे पर जगुआर विमानों की दो स्क्वाड्रन हैं और मिग-21 बिसन विमानों की एक स्क्वाड्रन है।

- भारतीय वायुसेना के एक अधिकारी ने बताया कि पश्चिम बंगाल में हासिमारा अड्डे पर भी बुनियादी ढांचे को उन्नत बनाने का काम चल रहा है। यहां राफेल विमानों की दूसरी स्क्वाड्रन होगी।

- अधिकारी ने कहा, ‘‘हम अगले साल के आखिर तक राफेल विमानों के लिए सभी बुनियादी ढांचे तैयार कर रहे हैं।’’