अमरनाथ हमला: अमेरिका में पाकिस्तान पर बैन की मांग

नई दिल्ली (11 जुलाई): जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों पर हुए हमले की चौतरफा निंदा हो रही है। देश ही नहीं विदेशों में भी लोग इसके लिए पाकिस्तानी आतंकी संगठनों को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं और पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। इन सबके बीच अमेरिकी हिंदू फाउंडेशन ने पाकिस्तान पर बैन लगाने और उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

भारत में अमेरिका के कार्यवाहक राजदूत मैरीके लॉस कार्लसन ने बयान जारी कर कहा है कि अमेरिका हर तरह के आतंकी हमले की निंदा करता है। वह अमरनाथ तीर्थयात्रियों पर हुए आतंकी हमले की कड़ी आलोचना करता है। अमेरिका हमले में मारे गए और इससे प्रभावित लोगों के परिवारों वालों के साथ है। अमेरिका ने केनिथ जस्टर को भारत का राजदूत बनाया है लेकिन उन्होंने अभी तक कार्यभार नहीं संभाला है।  

अमेरिका के अलावा कुछ और देशों ने भी इस हमले की निंदा की है। श्रीलंका, नेपाल और भूटान ने भी हमले में मारे गए लोगों के लिए सांत्‍वना जताई है। श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघ ने इस आतंकी हमले को 'खौफनाक' करार दिया है। विक्रमसिंघे ने भी ट्विटर पर आतंकी हमले में मारे गए लोगों के प्रति सांत्‍वना जताई है।

वहीं भूटान के विदेश मंत्री दामछो दोरजी ने ट्वीट कर इस हमले की निंदा की है। उन्होंने लिखा है कि मेरी संवेदनाएं हमले के पीड़ितों और उनके परिवार वालों के साथ हैं।

उधर नेपाल के विदेश मंत्रालय ने भी ट्विटर पर इस हमले की निंदा करते हुए मारे गए लोगों के लिए संवेदनाएं जताई हैं।