मुलायम के कहने पर हम भी अखिलेश का नारा लगाने को तैयार- अमर सिंह

नई दिल्ली (8 नवंबर): उत्तर प्रदेश में अगले महीने विधानसभा चुनाव होने हैं। तमाम पार्टियां चुनावी तैयारी और प्रचार में जुटी है। वहीं समाजवादी पार्टी में पिछले 6 महीने से जारी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। पिता मुलायम और बेटा अखिलेश में पार्टी में वर्चस्व को लेकर जारी लड़ाई चुनाव आयोग तक पहुंच चुका है। सिसायत के माहिर खिलाड़ी समझे जाने वाले मुलायम सिंह को समझ में नहीं आ रहा है कि वो बेटे अखिलेश की चुनौती से कैसे निपटे। अखिलेश यादव ने पार्टी, पार्टी के चिन्ह सहित कई चीजों पर अपना दावा ठोक दिया है।


बेटे अखिलेश के समान पिता मुलायम लाचार नजर आ रहे हैं। वहीं मुलायम से छोटे भाई शिवपाल यादव और दोस्त अमर सिंह भी हासिये पर चले गए हैं। शिवपाल यादव और अमर सिंह को तो अखिलेश यादव पार्टी तक से बेदखल कर चुके हैं।


इन सबके बीच खबर आ रही है कि लाचार पिता मुलायम अब पुत्र अखिलेश की तमाम शर्ते मानने को तैयार है। शिवपाल यादव पहले की कह चुके हैं मुलायम यादव जो कहें वो वहीं करेंगे। और अब अमर सिंह ने भी अपना रूख साफ कर दिया है। अमर सिंह ने साफ किया है कि मुलायम सिंह के कहने पर वो भी अखिलेश यादव का नारा लगाने के लिए तैयार हैं।


अमर सिंह की बड़ी बातें...


- मैं और शिवपाल मिट्टी थे। जिस कुम्हार ने हमारा निर्माण किया, हमारी प्रतिमा बनाई वह मुलायम सिंह हैं। हम उनके 2 बाजू हैं


- इतना सब होने के बावजूद जब आरोप लगता है तो दिल दुखता है


- हर तरह का त्याग बलिदान देने को हम तैयार हैं, ताकि परिवार टूटे नहीं और एक रहे


- मैंने इस्तीफा देने की कोशिश की और देने के लिए तैयार बैठा हूं, हर तरह का बलिदान देने को तैयार हूं


-सारी विषमता और प्रतिकूलता का ठीकरा मुझपर और भाई शिवपाल यादव पर फोड़ दिया गया है


- विकास का दावा करने वाले लोग विज्ञान के इस युग में अपने समर्थकों के माध्यम से तंत्र और तांत्रिक बात कर रहे हैं