जिस दिन बीजेपी में जाना होगा, डंके की चोट पर करुंगा ऐलान- अमर सिंह

लखनऊ (17 जनवरी): पार्टी और चुनाव चिन्ह पर अखिलेश यादव के कब्जे के बाद अब अमर सिंह के सियासी भविष्य पर एकबार फिर सवाल खड़ा हो गया है। एक जनवरी को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने जाने के बाद सबसे पहले अखिलेश यादव अमर सिंह को ही पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया था। अब जब समाजवादी पार्टी पर अखिलेश यादव का पूरा कब्जा हो गया है और मुलायम सिंह-शिवपाल यादव ने उनके सामने सरेंडर कर दिया है। ऐसे में अमर सिंह अब पूरी तरह से समाजवादी पार्टी से बाहर हो गए हैं।

इन सबके बीच कयास लगाया जा रहा था की अमर सिंह बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। लेकिन चुनाव आयोग के अखिलेश के पक्ष में फैसले के एक दिन बाद अमर सिंह ने साथ किया है कि वो बीजेपी में शामिल होने नहीं जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि 'जिस दिन भी मुझे बीजेपी में जाना होगा, मैं डंके की चोट पर कहूंगा और खुले आम जाऊंगा'।

साथ ही अमर सिंह ने कहा कि भले ही कुछ लोग उन्हें शकुनी समझे पर मुलायम सिंह उन्हें खलनायक नहीं समझते हैं।

दरअसल पिछले दिनों अमर सिंह को केंद्र सरकार की ओर जेड श्रेणी की सुरक्षा दी गई थी। जिसे अखिलेश गुट ने इसे बीजेपी की ओर से अमर सिंह के सामाजवादी पार्टी तोड़ने का इनाम कहा था। समाजवादी पार्टी सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा कि अमर सिंह को बीजेपी का एजेंट होने का इनाम मिला है।

अमर सिंह की बड़ी बातें...

- मुझे जिस दिन बीजेपी में जाना होगा, मैं डंके की चोट पर कहूंगा और खुले आम जाऊंगा

- चुनाव आयोग के फैसले के पहले ही मैंने कहा था कि मैं किसी तरफ नहीं हूं

- मैं लंदन में हूं और मुझे निष्कासित भी किया गया है, जिसे स्वीकार करता हूं

- जीतने वाला गलत है या हारने वाला , इसका मापदंड सफलाता या विफलता नहीं हो सकती

- मुलायम सिंह मुझे खलनायक नहीं मानते

- एक तरफा प्यार में बहुत ताकत होती है, उसे कोई बांट नहीं सकता

- अब सामने वाला चाहे मुझे खलनायक कहे या शकुनी