यह है राजनेताओं की 'राज' देवी, टॉप तक पहुंचाने की पूरी गारंटी

नई दिल्ली (18 मई): सत्ता का नशा एक ऐसी चीज़ होता है जिसे बार-बार हासिल करने के लिए नेता बहुत कोशिश करते हैं। इसके लिए नेता तांत्रिक, बाबाओं और ज्योतिषियों के चक्कर लगाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं भारत में एक ऐसी देवी हैं जो राजनीति में टॉप तक पहुंचाने की पूरी गारंटी देती हैं। देश के कई बड़े-बड़े प्रधानमंत्री तक इन देवी के दर्शन के लिए आ चुके हैं।

मां के दरबार में दर्शन के लिए एक बार फिर समाजवादी पार्टी ज्वाइन करने वाले अमर सिंह पहुंचे। लंबा राजनीतिक वनवास काटने के बाद समाजवादी पार्टी में फिर से वापसी करते ही अमरसिंह और अभिनेत्री जयाप्रदा के साथ नलखेड़ा पहुंचे, जहां है प्रसिद्ध मां बगुलामुखी सिद्धपीठ मंदिर। राज्यसभा के लिए टिकट का ऐलान होने के बाद अमर सिंह ने सबसे पहले मां बगुलामुखी को याद किया।

ये पहली बार नहीं है जब अमर सिंह यहां अपनी फ़रियाद लेकर आए हों। इससे पहले कैश फॉर वोट कांड में फंसे होने के दौरान भी वह यहां पहुंचे थे जब उन्हें क्राइम ब्रांच के सवालों से जूझना पड़ रहा था। पहले उन्होंने उज्जैन में यज्ञ किया, उसके बाद नलखेड़ा में मौजूद बगुलामुखी देवी मां के मंदिर में पहुंचे थे। पुलिस की गाड़ी में बैठकर वो पानी से भरी सड़क को भी पार कर गए थे। मंदिर में दर्शन के दौरान ये भी देख रहे थे कि कहीं आसपास कोई मीडिया वाला न खड़ा हो, फिर उन्होंने मां के दर्शन किए।

अमर सिंह इकलौते ऐसे नेता नहीं हैं जो मां के दरबार में दर्शन के लिए पहुंचे हों। इससे पहले राजस्थान की महारानी भी अपने राजनीतिक सफ़र में एक मुश्किल मुकाम पर आकर खड़ी हो गईं थीं वसुंधरा राजे सिंधिया। उन्हें सत्ता के लिए बड़ा इम्तिहान देना पड़ा था और तब वो एक महीने में ही 2 बार मां पीताम्बरा पीठ की चौखट पर माथा टेकने जा पहुंची थी। ललित गेट के चक्रव्यूह में फंसी महारानी के खिलाफ विरोधियों ने मोर्चा खोल रखा था। वसुंधरा राजे दो तरफा शिकंजे में नज़र आ रही थी। एक तरफ ललित मोदी की मदद करने का आरोप तो वहीं उनके बेटे दुष्यंत सिंह पर ललित मोदी से फायदा लेने का इल्जाम भी लगा था।  ऐसे में वसुंधरा राजे ने मां बगुलामुखी के दर्शन किए। उन पर ही भरोसा जताया कि देवी मां ही उन्हें संकट से उबार सकती हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री पंडित नेहरू और उनकी बेटी इंदिरा गांधी भी संकट के समय में बगुलामुखी देवी के दर्शन के लिए जा चुके हैं और हर बार मां ने दोनों को संकट से उबारा है। देश में कई ऐसे राजनेता हैं जो मां बगुलामुखी देवी के दर्शन के लिए पहुंच चुके हैं और इतिहास गवाह सबने पालिटिक्स में पूरी पावर हासिल की है, सभी सत्ता के शिखर तक पहुंचे हैं।

देखिए पूरी रिपोर्ट: [embed]https://www.youtube.com/watch?v=lLgZJbJz_JU[/embed]