CBI की छापेमारी पर भड़के लालू, कहा- हम मिट्टी में मिल जाएंगे, लेकिन मोदी सरकार को हटाकर ही दम लेंगे

नई दिल्ली (7 जुलाई): लालू यादव और उनके परिवार की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। सीबीआई की टीम शुक्रवार सुबह पटना में लालू यादव के घर पहुंची। पटना के अलावा दिल्ली, रांची, पुरी, गुड़गांव समेत लालू के 12 ठिकानों पर छापेमारी की है। बतौर रेल मंत्री टेंडर में हेराफेरी के आरोप में सीबीआई ने उनके खिलाफ मामला दर्ज किया है।इस कार्रवाई से भड़के लालू प्रसाद यादव ने कहा कि ये बीजेपी की राजनीतिक साजिश है। हमने कुछ भी गलत नहीं किया, नियम के तहत ही ठेके दिए गए. आईआरसीटीसी होटलों के ठेके में कोई गड़बड़ी नहीं है। उन्‍होंने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि मोदी सरकार को हराकर दम लेंगे। लालू ने कहा कि मैंने कोई गलत काम नहीं किया। हमने सबकुछ नियमों के तहत किया। टेंडर की प्रक्रिया में कोई गड़बड़ी नहीं की गई थी। उन्होंने कहा कि ये सबकुछ एनडीए के कार्यकाल में हुआ है, इसमें मुझे फंसाने की कोशिश की जा रही है।उन्होंने खुद को बेकसूर बताते हुए कहा कि केंद्र की बीजेपी सरकार राजनीतिक विद्वेष के कारण उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रही है। सीबीआई ने उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेजस्वी यादव सहित 8 लोगों पर केस दर्ज किया है।लालू यादव ने कहा है कि वह किसी हाल में झुकने वाले नहीं है। उन्होंने कहा कि 2006 में उनके रेल मंत्री रहते हुए सब कुछ नियमों के तहत किया गया था। टेंडर की प्रक्रिया में कोई गड़बड़ी नहीं की गई थी। उन्होंने कहा, 'हम मिट्टी में मिल जाएंगे लेकिन बीजेपी और मोदी सरकार को हटाकर ही दम लेंगे।'लालू ने पत्रकारों से कहा, 'होटलों के विकास, रखरखाव को लेकर फैसला मेरे रेल मंत्री बनने से पहले ही किया गया था। होटल को ओपन टेंडर के आधार पर लाइसेंस दिया गया था। लीज के रूप में 15 साल के लिए आईआरसीटीसी की तरफ से लाइसेंस दिए गए हैं। इन होटलों को दिए गए लाइसेंस से आईआरसीटीसी को 1 करोड़ रुपये प्राप्त हो रहे हैं।लालू ने कहा, 'मैंने रेल मंत्री होते हुए कोई धन अर्जन नहीं किया है। मेरे रेल मंत्री रहते हुए रेल मंत्रालय घाटे से फायदे में चलने लगा। आज सेकंड एसी का किराया हवाई जहाज से ज्यादा है।' उन्होंने कहा, 'मैं किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हूं। मैं जांच में सहयोग के लिए तैयार हूं। बीजेपी मुझे और दूसरे नेताओं को बदनाम करने की साजिश कर रही है। वह चाहती है कि सभी अपनी जुबान बंद रखें और वह अकेले सत्ता में बनी रहे।' बिहार के पूर्व सीएम ने आगे कहा, 'मेरे पीठ पीछे मेरे घर पर छापेमारी की गई, मेरे बच्चों को परेशान किया गया जो ठीक नहीं है। मैं जानना चाहता हूं कि सीबीआई को आखिर कौन से दुर्लभ दस्तावेज हासिल हुए हैं।'