योगी कैबिनेट की हरी झंडी, अब से इस नाम से जाना जाएगा इलाहाबाद

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (15 अक्टूबर): संगम नगरी इलाहाबाद का नाम बदलने जा रहा है। इलाहाबाद अब प्रयागराज के नाम से जाना जाएगा। योगी कैबिनेट ने आज अपनी बैठक में इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने को हरी झंडी दे दी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में इलाहाबाद शहर का नाम प्रयागराज किए जाने के प्रस्ताव पर अंतिम मुहर लगा दी। इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने की मांग लंबे अर्से से चल रही थी। साधु संतों का कहना था कि पहले भी इलाहाबाद का नाम प्रयाग ही था, जिसे मुगल बादशाह अकबर ने बदलकर अल्लाहाबाद रख दिया था। समय बीतने के साथ इसे इलाहाबाद कहा जाने लगा था।आपको बता दें कि पिछले दिनों सीएम योगी आदित्यनाथ ने जल्द ही इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज करने का ऐलान किया किया था। साथ ही उन्होंने कहा था कि इसके लिए राज्यपाल राम नाईक ने भी अपनी सहमति दे दी है। सीएम योगी ने कुंभ मेले के आयोजन से जुड़ी मार्गदर्शक मंडल की पहली बैठक के यह जानकारी दी थी।  सीएम योगी ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज किए जाने को समर्थन देते हुए कहा कि जहां दो नदियों का संगम होता है उसे प्रयाग कहा जाता है। उत्तराखंड में भी ऐसे कर्णप्रयाग और रुद्रप्रयाग स्थित है। हिमालय से निकलने वाली देवतुल्य दो नदियों का संगम इलाहाबाद में होता है और यह तीर्थों का राजा है। ऐसे में इलाहाबाद का नाम प्रयाग राज किया जाना उचित ही होगा।

आपको बता दें कि इलाहाबाद को वैसे भी तीर्थराज प्रयाग के नाम से जाना जाता है। पहले इसका नाम प्रयाग ही था लेकिन मुगल बादशाह अकबर ने 1583 ईस्वीं में इसका नाम बदलकर इलाहाबाद रख दिया था। 16वीं शताब्दी के समय में मुगल बादशाह अकबर के जमाने में दीन-ए-इलाही धर्म की शुरुआत हुई थी। इसी के बाद यह शहर इलाहाबाद के नाम से मशहूर हुआ।ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये खास रिपोर्ट...