प्रयागराज कुंभ: अब साधु-संत कर रहे हैं 'डिजिटल' मशीन से राम नाम का जाप



न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 दिसंबर): टेक्नोलॉजी के युग में साधु- संत भी हाईटेक हो गए हैं। तीर्थ राज प्रयाग के कुुंभ मेले में शिरकत करने आने वाले साधु संत अब रुद्राक्ष और स्फटिक की मालाओं से नहीं बल्कि डिजिटल मशीन से राम नाम का जाप कर रहे हैं। साधु संत भी साइंस के इस युग में टेक्नोलजी से अछूते नहीं हैं। उनके हाथों में एन्ड्रायड मोबाइल और लैपटाप जैसी तकनीकी जहां पहले से मौजूद है, तो वहीं राम नाम जपने के लिए भी इन बाबाओं ने विज्ञान के नये आविष्कार को अपना लिया है।



कुंभ मेले में शिरकत करने के लिए मुंबई और हरिद्वार से निरंजनी अखाड़े में पहुंचे सन्यासी इलेक्ट्रानिक डिवाइस यानी काउन्टिंग मशीन के जरिए राम नाम का जाप कर रहे हैं। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी के मुताबिक आम तौर पर रुद्राक्ष या किसी दूसरी माला में 108 दाने होते हैं, लेकिन कई बार लोग जाप में भूलवश गलती कर बैठते हैं। और कई बार उनके पास मालायें भी उपलब्ध नहीं होती हैं। ऐसे में ये डिजिटल काउंट मशीन से ही साधु संत राम नाम का जाप कर रहे हैं। जिसमें गलती की भी कोई संभावना नहीं होती है।




बता दें कि सनातन धर्म में माला जपने का विशेष महत्व माना गया है. इसके लिए पुरानी परम्परा में जहां साधु संत कापियों पर राम का नाम लिखते थे, वहीं हर बार राम का नाम जपने पर एक दाना चावल या गेंहू भी निकालते थे, लेकिन पुरानी परम्पराओं को छोड़कर अब साधु संत भी हाईटेक हो गए हैं। मुंबई से कुंभ में शिरकत करने पहुंचे निरंजनी अखाड़े के संत महंत केशव पुरी के मुताबिक वे काफी समय से डिजिटल मशीन से राम नाम का जाप कर रहे हैं। उनके मुताबिक ये मशीने विदेश और देश में भी उपलब्ध हैं। साथ ही सस्ती होने के साथ लोगों को आसानी सुलभ भी है।