व्हाट्सअप ग्रुप से निकाले जाने से नाराज़ अलका लांबा, बोलीं-2020 में समाप्त हो जाएगा सफ़र

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (26 मई): आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा का दावा है कि उन्हें महज एक सवाल पूछने के लिए पार्टी के व्हाट्सग्रुप से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। दरअसल लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद शनिवार को दिल्ली के सीएम और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने व्हाट्सग्रुप में विधायकों के लिए लिखा कि हमें जनता के बीच जाना चाहिए, उनसे माफी मांगनी चाहिए और एक मौका मांगना चाहिए। अलका का कहना है कि उन्होंने बस केजरीवाल से यह सवाल कर दिया कि कौन सी गलतियां हुई हैं, इस पर भी चर्चा होनी चाहिए तो मुझे व्हाट्स ग्रुप से बाहर निकाल दिया गया।

अलका लांबा ने एक वीडियो के जरिए बताया है कि उन्हें 5-6 महीने पहले दोबारा ग्रुप में जोड़ा गया था। उसके बाद उनकी किसी से कोई बात नहीं हुई थी. लेकिन आज जब अरविंद केजरीवाल से उन्होंने सवाल पूछा तो फिर बाहर कर दिया गया। अलका यह भी कहना है कि कुछ लोग उन्हें पार्टी से बाहर निकाल देना चाहते हैं लेकिन उनके पास कोई ठोस कारण नहीं है। अलका ने यह भी दोहराया कि जनता ने उन्हें पांच साल के लिए चुना है। अभी पांच महीने बाकी हैं और मैं जनता की सेवा करती रहूंगी। 

ग्रुप से निकाले जाने से नाराज़, AAP विधायक का ट्वीट है- '2013 में आप के साथ शुरू हुआ मेरा सफ़र 2020 में समाप्त हो जायेगा। मेरी शुभकामनाएं पार्टी के समर्पित क्रांतिकारी ज़मीनी कार्यकर्ताओं के साथ हमेशा रहेगीं, आशा करती हूं आप दिल्ली में एक मजबूत विकल्प बने रहेगें। आप के साथ पिछले 6साल यादगार रहगें। आप से बहुत कुछ सीखने को मिला। आभार।'

वहीं अलका लांबा के दावे पर पार्टी की तरफ से कहा गया है कि हमें उनके बारे में कुछ भी नहीं कहना है। वो अटेंशन सीकर हैं, पार्टी के मुताबिक कुछ विधायकों ने मुद्दा उठाया था कि उनके इलाकों में लोग स्थानीय मुद्दों से नाराज हैं। इस पर केजरीवाल ने विधायकों को नसीहत दी कि लोगों से मुलाकात कर समस्याओं के जल्द निपटारे का भरोसा दिया जाए।