बारिश के साथ ही करना पड़ सकती है इस आफत का सामना

इंद्रजीत, मुंबई (28 जून): मॉनसून की दस्तक के साथ ही देश के कई हिस्सों में लोगों को आसमानी आफत का सामना करना पड़ सकता है। तेज हवाओं के साथ भारी बारिश भारी तबाही मचा सकती है। अरब सागर में बढ़ते दवाब की वजह से मुंबई में हाईटाइड का खतरा बना हुआ और मुंबई का निचला डूब भी सकता है।

मुंबई, गुजरात का तटीय क्षेत्र, हिमाचल प्रदेश और उत्तारखंड ये वो इलाके हैं, जहां लगातार बारिश हो रही है और आगे आसामनी आफत से लोगों को जूझना पड़ सकता है, जिसकी संभावना जताते हुए मौसम विभाग ने अलर्ट कर दिया है। मुंबई में जुलाई के 8 दिन मुश्किल भरे हो सकते हैं। पिछले एक सप्ताह से रुक रुक बारिश हो रही है, अगर ये बारिश और तेज हुई तो जुलाई महीने के 8 दिन समंदर भूचाल मचा सकता है।

समंदर से ऊंची लहरें उठेंगी और मुंबइकर पर मुसीबत बनकर टूटेगी। मौसम विभाग के मुताबिक, समंदर में साढ़े चार मीटर से ऊंची लहरें उठेगी ये लहरे तीन जुलाई से 24 जुलाई तक रहेगीं, जिसमे सबसे बड़ा हाई टाइड 5 जुलाई को होगा। इस दिन 4 मीटर 77 सेंटीमीटर ऊंची लहरें उठेगी। गुजरात के समुद्री तट पर भी खतरे की आहट है। तेज हवाओं के साथ भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। इसके मद्देनजर सभी बंदरगाहों पर अलर्ट जारी कर दिया गया है। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी कर मछुवारों का समंदर में नहीं जाने की हिदायत दी है।

हिमाचल प्रदेश के निचले इलाकों में मुसलाधार बारिश हो रही है। बारिश का ये सिलसिला फिलहाल खत्म नहीं होने वाला है। आगे आने वाले दिनों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। खासकर हिमाचल के पांच जिले मंडी, कांगड़ा, बिलासपुर, सोलन और सिरमौर में ये बारिश लोगों पर आफत बनकर बरसने वाली है। 30 जून तक निचले बाढ़ जैसे हालात पैदा हो जाएंगे। मौसम विभाग ने सभी के अलर्ट कर दिया है।

भारी बारिश हाईटोइड की वजह से इन इलाकों में लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। पहाड़ी इलाकों में भारी बारिश भुस्खलन का खतरा बना रहेगा और लोगों की आवाजाही बाधित हो सकती है।