झूठ है योगी सरकार का श्वेत पत्र, कर्जमाफी के नाम पर किसानों को दिया धोखा: अखिलेश यादव

नई दिल्ली ( 20 सितंबर ): समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बुधवार को सीएम योगी आदित्यनाथ पर सरकार के 6 महीने के कामकाज पर के रिपोर्ट कार्ड और पिछली सरकारों के कामकाज पर श्‍वेत पत्र जारी करने को लेकर जमकर निशाना साधा। अखिलेश यादव ने सरकार के श्वेत पत्र को झूठ बताते हुए कहा कि सरकार ने कर्जमाफी के नाम पर किसानों के साथ धोखा किया है। 

अखिलेश ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सरकार ने अपने छह महीने का कार्यकाल पूरा होने से पहले पिछली सरकारों के कामकाज पर जो श्वेत-पत्र जारी किया है, वह सफेद झूठ की किताब है जो सरकार पिछले छह माह में खुद कुछ नहीं कर सकी, वह बहकाने के लिये श्वेत-पत्र ला रही है। उन्होंने कहा कि अगर कोई उनसे मंत्रोच्चार करने या पूजा का इंतजाम करने को कहे तो वह शायद नहीं कर सकेंगे, उसी तरह मुख्यमंत्री योगी राजपाट नहीं चला पा रहे हैं। पहले सरकार 1 महीने में श्वेत पत्र लाना चाहती थी, लेकिन लाने में 6 महीने लग गए। 

-उम्र भर हम ये गलती करते रहे चेहरे पर धूल थी और आईना साफ करते रहे। 

-सरकार ने कर्जमाफी के नाम पर धोखा दिया झूठ बोला। 

-योगी जी खुद किसानों का सर्टिफिकेट देख लेते। 

-कही कोई कर्ज माफ नहीं हुई।

-जब किसानों को सर्टिफीकेट दिया जा रहा है तो आंखे बंद होगी या सो रहे होंगे। 

-सरकार का दावा गन्ना किसान का भुगतान हुआ. जबकि गन्ना मंत्री के क्षेत्र में ही भुगतान नहीं हुआ।

-देश में कहीं पर भी पैसे में किसानों का कर्ज माफ नीं किया होगा, लेकिन इस सरकार ने वो भी कर दिया।

-मेट्रो बीजेपी का सपना कैसे हो सकता है। मैंने टीवी पर देखा। तो फिर सपना वाराणसी का क्यों नहीं देखा। इंतजार रहेगा कि झांसी में मेट्रो चलेगी। 

-एक्सप्रेस वे को लेकर कहा जा रहा है कि कोई काम नहीं हुआ। अगर आप 6 महीने में सभी कार्यों रोके नहीं होते, सभी कार्य हो गए होते।

-एक्सप्रेस वे पर हर रोज 10,000 गाड़ियां चल रही हैं। 

-उपमुख्यमंत्री जी का नेम प्लेट शास्त्री भवन से क्यों हटाना पड़ा ये भी श्वेत पत्र में होना चाहिए था। 

-दाल में नमक कितनी होनी चाहीए ये भी श्वेत पत्र में होना चाहिए था। 

-ये दो इंजन वाली सरकार है। 

-108 के संविदाकर्मियों को उनका हक मिलना चाहिए।