शिवपाल ने की मांग, मुलायम बनें मुख्यमंत्री

नई दिल्ली ( 24 अक्टूबर ) : समाजवादी पार्टी का कुनबा अब बिखरने के कगार पर है। इसके कई वजहें अब सामने दिख रही हैं। सोमवार को हुई बैठक में चाचा ने भतीजे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर जमकर तीर छोड़े। अखिलेश यादव ने कहा, नेता जी कहें तो वह पद से इस्तीफा दे देंगे। कहा है कि मुझे शिवपाल और नेता जी दोनों से आज बात करनी है और भावुक होकर उन्होंने बैठक में अपनी बात कही। लेकिन जब शिवपाल बैठक भाषण देने आए, तो उन्होंने अखिलेश पर जमकर हमला बोला, साथ ही रामगोपाल पर गंभीर आरोप लगाए। शिवपाल  ने जितने भी उनके तरकश के तीर थे वो सब अखिलेश पर आखिरी वार के रूप में चलाए। 

उन्होंने मुलायम से मांग की कि अखिलेश हटाकर नेता जी मुख्यमंत्री का पद संभाले। शिवपाल ने कहा, अखिलेश एक दूसरी पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की बात कह रहे थे। साथ ही कहा, मैं अपने बेटे की कसम खाकर कह रहा हूं, अखिलेश ने मुझसे नई पार्ची बनाने की बात कही थी। 

शिवपाल की बैठक में मुख्य बातें  1- हंगामा करने वालों को हटाना जरूरी था. 2- हम भी जवाब दे सकते थे. पार्टी बनाने में हमने नेताजी का साथ दिया. 3- पार्टी के लिए मैंने बहुत संघर्ष किया. 4- गांव गांव में हमने नेताजी की चिट्ठियां बांटी. 5- तीन तीन महीने साइकिल चलाता रहा है. 

आप बताएं मैंने आपका कौन सा आदेश नहीं माना

6- मेरे से सभी विभाग लिए गए. 7- क्‍या सरकार में मेरा कोई योगदान नहीं है. 8- आप बताइए, मैंने सीएम का कौन से आदेश नहीं माना. 9- हर आदेश मैंने नेताजी और सीएम का माना है.

पार्टी में गुडें और धूर्तों की भरमार 16- पार्टी में गुंडों, धूर्तों और मक्‍कारों की भरमार है. 17- नेताजी के खून पसीने से ये पार्टी बनी है. किसी के नारे लगाने से सरकार नहीं बनेगी. 18- मैं एक एक का नाम बताऊंगा. नेताजी आप कहेंगे तो मैं सबका नाम लेकर आपको बताऊंगा. और आप कहेंगे तो एक एक को बाहर करूंगा. 19- मुख्‍तार अंसारी की वजह से मुझे बदनाम किया गया. 20. कुछ लोग अमर सिंह के पैरों की धूल के बराबर नहीं हैं.

अब आप आ जाओ नेताजी 21- नेताजी अब आपको नेतृत्‍व संभालने की जरूरत है. 22- लुटेरों और दलालों से जनता को नफरत है. 23- प्रदेश की बात तो दूर कार्यकर्ता और बेहतर काम करने वाले जिले की कमेटी में नहीं थे. मैंने शिकायत नेताजी से नहीं की थी. मुझे पार्टी चलाने की छूट मिले. 24- अगर सपा में रहना है तो अनुशासन में भी रहना होगा. 25- पांच नवंबर को जो मिलन है उसमें सबको आना है. और नेताजी के नेतृत्‍व में यूपी में सरकार लानी है.