मायावती के बाद अब अखिलेश यादव भी किसी सदन के सदस्य नहीं होंगे

लखनऊ (5 मई): बीएसपी प्रमुख मायावती के बाद अब समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव आज से किसी सदन के सदस्य नहीं होगें। अखिलेश यादव का आज विधान परिषद सदस्य का कार्यकाल खत्म हो रहा है। 17 साल में पहली बार ऐसा होगा जब अखिलेश यादव किसी सदन के हिस्सा नहीं होंगे। अखिलेश यादव साल 2000 कन्नौज में उपचुनाव में लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए थे। तब से उनका संसद में प्रतिनिधित्व बना रहा। मार्च 2012 में उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद अखिलेश यादव विधानसभा क्षेत्र से विधान परिषद के लिए चुने गए। अखिलेश यादव का कार्यकाल आज रात 12 बजे खत्म हो जाएगा।अखिलेश यादव ने कन्नौज संसदीय क्षेत्र से 2019 में चुनाव लडऩे का संकेत दिया है। इस बीच वह संसद और विधानमंडल के किसी सदन में नहीं होंगे। उन्होंने पहले ही ऐलान कर दिया है कि 2019 में वह कन्नौज से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे यानी अगले 1 साल तक अखिलेश किसी भी सदन के सदस्य नहीं बनेंगे और 2019 में पत्नी डिंपल की खाली की गई सीट से वह चुनाव लड़ेंगे।आपको बता दें कि बीएसपी प्रमुख मायावती भी इस समय किसी सदन की सदस्य नहीं हैं। उन्होंने पिछले साल राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।