पीएम बताएं कि किसानों की आमदनी कितनी बढ़ी: अखिलेश यादव

नई दिल्ली ( 26 फरवरी ): उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा लगाए गए आरोपों का जवाब दिया। उन्हें काम को लेकर बहस की चुनौती दी। लखनऊ में सपा कार्यालय में मीडिया को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने ये बाते कहीं।

अखिलेश यादव ने कहा कि ये चुनाव बेहद अहम है। पीएम के लिए जनता इंतजार कर रही है कि वह कम काम की बात करेंगे। उन्होंने कहा कि अब पीएम जहां-जहां जाएं काम की बात करें।

मुख्यमंत्री ने पीएम मोदी को चुनौती देते हुए कहा कि उपलब्धियों और काम की बहस करने के लिए पीएम जगह बताएं। उन्होंने पूछा कि केंद्र में बीजेपी की सरकार बने लगभग तीन साल हो गए हैं, पीएम बताएं कि किसानों की आमदनी कितनी बढ़ी। उन्होंने कहा कि किसानों का लोन माफ करने के लिए जरूरी नहीं राज्य में आपकी सरकार हो। केवल यूपी नहीं पूरे देश के किसान कर्ज माफी की आश लगाए बैठे हैं। अखिलेश ने कहा कि कहीं ऐसा तो नहीं कि यूपी में वोट लेने के लिए पीएम किसानों का कर्ज माफी की बात कह रहे हैं।

अखिलेश यादव ने कहा कि केंद्र सरकार ने इन सालों ने जितना काम किया है उसी का हिसाब दे दें। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल में केंद्र ने क्या काम किया है उसकी भी जानकारी दें। हमने जो काम किया है हम बता सकते हैं।

अखिलेश ने कहा कि कई मार्गों को 4 लेन किया, बुनकर बाजार बनाया। गोरखपुर एम्स के लिए जगह भी दी, अब पीएम बताएं कि एम्स कब पूरा होगा। उन्होंने कहा कि हम पर आरोप है कि हम भेदभाव के आधार पर स्कीम चलाते हैं, लेकिन जिनको लाभ मिला है उनकी सूची देख लें स्पष्ट हो जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि लैपटॉप और कन्या विद्याधन के लाभार्थी नकल से तो पास नहीं हुए होंगे। ऐसे बच्चों से अपील है कि भेदभाव की बात करने वालों को सबक सिखाएं। उन्होंने कहा कि कहो तो योजनाओं का लाभ लेने वालों की सूची अखबारों में छपवा दूं। समाजवादी सरकार ने कोई भेदभाव नहीं किया।