तो अखिलेश कांग्रेस के साथ मिलकर लड़ेगें यूपी चुनाव ?


नई दिल्ली (30 अक्टूबर): अखिलेश यादव के समाजवादी पार्टी से निष्कासन के बाद एसपी का टूटना तय है। वहीं पार्टी से बाहर निकाले जाने के बाद भी अखिलेश यादव के तेवर तल्ख है। इस बीच खबर आ रही है कि अब अखिलेश यादव कांग्रेस से गठबंधन कर यूपी विधानसभा चुनाव के मैदान में उतर सकते हैं।


गौरतलब है कि राहुल-अखिलेश के 'अच्छा लड़का' वाले बयान के बाद से ही गठबंधन की चर्चाओं-मुलाकातों और समीकरणों पर बातचीत चल रही है। गठबंधन के इस लूप में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और कुछ हद तक यूपी प्रभारी गुलाम नबी आजाद शामिल हैं। वहीं समाजवादी पार्टी की तरफ से बातचीत के लूप में केवल अखिलेश यादव हैं।


समाजवादी पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव को लूप से बाहर तो नहीं किया गया है, लेकिन उनकी अपेक्षा अखिलेश के रुख को कांग्रेस गंभीरता से ले रही है। यह चर्चा अखिलेश के सर्वे और पीके के फॉर्म्युले के आधार पर हो रही है। अक्टूबर बाद से ही समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन को लेकर मुलाकातों का दौर जारी है। प्रशांत किशोर-मुलायम-शिवपाल-अखिलेश की मुलाकात को अगर छोड़ दिया जाए तो ज्यादातर मुलाकातें पर्दे के पीछे ही रहीं।


पिछली बार जब सीएम अखिलेश यादव पीएम नरेंद्र मोदी से मिलने दिल्ली पहुंचे थे तो उसी दिन अखिलेश राहुल और प्रियंका की भी मुलाकात की हुई थी। सूत्र बताते हैं कि समाजवादी पार्टी के इंटरनल सर्वे की रिपोर्ट ज्यादा अच्छी न आने के बाद इस गठबंधन की संभावना ज्यादा प्रबल हो गई है। न तो कांग्रेस ही अकेले काफी कुछ करने में संभव है और न ही समाजवादी पार्टी। ऐसे में यह गठबंधन कम से कम समाजवादी पार्टी से छिटक रहे मुस्लिम वोटरों को रोक सकता है।