पाकेट मनी के नाम पर यूपी सरकार ने खर्च किए 9 करोड़, आजम दूसरे नंबर पर...

मानस श्रीवास्तव, लखनऊ (30 अगस्त): जिस उत्तर प्रदेश में किसान भूखे मर रहे हैं, जिंदा रहने के लिए वह घास की रोटी खाने को मजबूर हैं। इलाज के आभाव में ना जाने कितने बच्चों ने दम तोड़ दिया। कितने ही बच्चे पैसे के आभाव में स्कूल नहीं जा पाते है, उसी गरीब प्रदेश के मंत्रियों ने पौने नौ करोड़ रुपये अपनी पाकेट मनी में खर्च कर दिए। यह मंत्री हैं समाजवाद की दुहाई देने वाली समाजवादी सरकार के जिन्हें समाज की नहीं अपनी शाह खर्ची की चिंता है।

चार साल की सरकार में समाजवादी सरकार के मत्रियों ने पूरे पौने नौ करोड़ रुपये उड़ा दिए। अखिलेश मंत्रिमड़ल के एक मात्र मंत्री हैं शिवपाल सिंह यादव, जिन्होंने अपनी पाकेटमनी के नाम पर सरकार का एक भी रुपया खर्च नहीं किया। बाकी के खर्चे सुन लेंगे तो होश उड़ जाएंगे। सरकार के मंत्रियो ने मार्च 2012 से मार्च 2016 तक पाकेटमनी के नाम पर आठ करोड़ 78 लाख 12 हजार 474 रुपये खर्च दिए। यह आकंड़ा जब सदन के सामने आया तब जाकर असलियत मालूम पडी। अब समाजवादी पार्टी के लोग भी शर्मिंदा हैं।

इन मंत्रियों ने खर्च किए सबसे ज्यादा... - खर्च करने में अव्वल है संस्कृति राज्य मंत्री अरुणा कुमार कोरी, जिन्होंने 22 लाख 93 हजार रुपये खर्चे। - आजम खान ने 4 साल के भीतर 22 लाख 86 हजार 620 रुपये खर्च कर डाले। - कैलाश चौरसिया, शिवकुमार बेरिया ने 20-20 लाख रुपये खर्च कर डाले। - दर्जनों मंत्रियों ने 18 से 20 लाख रुपये तक खर्च कर डाले।

यह खुलासा भी बीजेपी के प्रयासों से ही हुआ। बीजेपी विधायक दल के नेता सुरेश खन्ना ने सत्र शुरू होते ही इस पर सवाल पूछ लिया था। जब जवाब हाथ में आया तो बीजेपी को बड़ा हथियार मिल गया।