मायावती और अखिलेश पहली बार एक साथ कर सकते हैं रैली

नई दिल्ली ( 28 मई ): कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्षी पार्टियों के साथ बैठक की थी। सोनिया गांधी के लंच के आमंत्रण पर बीजेपी-विरोधी पार्टियों संग उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती भी इस बैठक में शामिल हुई थीं।


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अखिलेश यादव और मायावती पहली बार एक साथ रैली कर सकते हैं। शुक्रवार को सोनिया गांधी की अगुआई में हुए लंच के दौरान हुई मीटिंग में आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने बीजेपी-विरोधी पार्टियों का गठबंधन बनाने के लिए दोनों नेताओं को एक साथ आने को कहा। समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल ने शनिवार को पुष्टि की कि लंच में सभी बीजेपी-विरोधी पार्टियों ने साझा रैलियां करने पर सहमति जताई। एक अंग्रेजी से उन्होंने यह बाते कहीं। उन्होंने अखबार से कहा कि 'बीजेपी का सामना करने के लिए एक संयुक्त विपक्ष मौजूदा वक्त की जरूरत है।'


सांसद ने कहा कि आगामी 27 अगस्त को लालू यादव की पटना के गांधी मैदान में होने वाली रैली के बाद उत्तर प्रदेश में एक रैली आयोजित की जाएगी।