अब अंगूठा लगाने के बाद एयरपोर्ट पर होगी एंट्री

नई दिल्ली (17 दिसंबर): आने वाले दिनों में अंगूठा लगाने के बाद ही एयरपोर्ट पर आपकी एंट्री होगी। दरअसल एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया यानी AAI एयरपोर्ट्स पर बायोमेट्रिक एक्सेस कंट्रोल सिस्टम लगाने की कवायद में जुटी है। AAI के मुताबिक, हैदराबाद में इसका पायलट प्रोजेक्ट भी पूरा कर लिया गया है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो हो सकता है कि एंट्री और बोर्डिंग के लिए भी आपका थम्ब इम्प्रेशन टिकट की तरह काम करेगा। 43 एयरपोर्ट पर बायोमेट्रिक सिस्टम के लिए कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है। दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, बेंगलुरु और नागपुर एयरपोर्ट ज्वाइंट वेंचर के तहत ऑपरेट किए जाते हैं। यहां भी ये सिस्टम लगाया जा सकता है।

बताया जा रहा है कि ब्रॉडकास्टिंग इंजीनियरिंग कंसलटेंट इंडिया लिमिटेड को देश के 43 एयरपोर्ट पर बायोमेट्रिक एक्सेस कंट्रोल सिस्टम लगाने का कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है। । AAI का ये कॉन्ट्रैक्ट 110 करोड़ रुपए से ज्यादा का है। अगर सब ठीक रहा तो एयरपोर्ट के अंदर जाने के लिए जिन डॉक्युमेंट्स और प्रॉसेस की जरूरत होती है, वो बस थम्ब इम्प्रेशन से पूरी हो जाएगी। मुमकिन है कि जब सरकार ये सिस्टम लागू कर दे तो फिर प्लेन में बोर्डिंग के लिए भी कम से कम घरेलू उड़ानों में भी थम्ब इम्प्रेशन का इस्तेमाल हो। एयरपोर्ट पर काम करने वालों को सिविल एविएशन सिक्युरिटी पास देगा। जब बायोमेट्रिक आइडेंटिफिकेशन सिस्टम काम करने लगेगा, तब वर्कर्स को स्मार्ट कार्ड दिए जाएंगे।

बायोमेट्रिक सिस्टम उन एयरपोर्ट्स पर भी लगाने की योजना है, जो ज्वाइंट वेंचर के तहत ऑपरेट होते हैं। आपको बता दें कि AAI 125 एयरपोर्ट को मैनेज करता है। इसमें 11 इंटरनेशनल और 81 घरेलू हवाई अड्डे शामिल हैं। देश के सात एयरपोर्ट्स पर गुरुवार से कुछ दिनों के लिए हैंड बैगेज पर सिक्युरिटी टैग लगाने का सिस्टम रोक दिया गया। CISF के मुताबिक ऐसा एयरपोर्ट्स पर पैसेंजर्स के लिए सिक्युरिटी प्रोसेस को आसान बनाने के लिए किया गया है।

गौरतलब है कि बोर्डिंग पास और हैंड बैगेज पर टैगिंग का सिस्टम भारत में 1992 से शुरू हुआ था। ये सिर्फ हमारे देश में ही होता है। एयरपोर्ट्स की सिक्युरिटी सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्युरिटी फोर्स के डायरेक्टर जनरल ओपी सिंह के मुताबिक अगर ये एक्सपेरीमेंट कामयाब रहता है तो इसका दूसरा दौर भी कंडक्ट किया जाएगा और इसमें बोर्डिंग पास को भी शामिल किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि फुल बॉडी स्कैन भी वॉलेंटरी बेसिस पर किए जा रहे हैं। अगर आप लंबे सिक्युरिटी चेक से बचना चाहते हैं तो फुल बॉडी स्कैन कराने में सिर्फ चार सेकंड लगेंगे। वैसे भी ये इंटरनेशनल सिक्युरिटी स्टैंडर्ड्स के मुताबिक है।