बोर्डिंग से मना करने पर एयरलाइन्स देंगी 20,000 तक हर्जाना

नई दिल्ली(18 जुलाई): हवाई यात्रा करने वालों के लिए बेहद अच्छी खबर। अब सीट से ज्यादा बुकिंग करने और इसके बाद बोर्डिंग से मना करने पर एयरलाइन्स को 20,000 रुपए तक हर्जाना देना होगा। 

पहले यह लिमिट 4,000 हजार रुपए थी। डीजीसीए ने सिविल एविएशन रिक्वायरमेंट्स (सीएआर) में बदलाव किए हैं जो 1 अगस्त से लागू हो जाएंगे। इसके मुताबिक, यदि एयरलाइन्स बोर्डिंग से मना करने के बाद एक घंटे के अंदर दूसरी उड़ान में पैसेंजर को सीट मुहैया करा देती है, तो उसे कोई हर्जाना नहीं देना होगा। जरूरी कारणों या एयरलाइन्स की कैपिसिटी से परे जाकर हुई देरी की स्थिति में भी कंपनी को छूट दी गई है।

हालांकि, 2 से 24 घंटे तक की देरी की स्थिति में पैसेंजर्स को खाना और रिफ्रेशमेंट देने की जिम्मेदारी एयरलाइन्स की तय की गई है। इससे ज्यादा देर होने पर उनके ठहरने की व्यवस्था भी करनी होगी।