एअर इंडिया ने 57 क्रू को फ्लाइंग ड्यूटी से हटाया, जानें क्यों

नई दिल्ली(20 जनवरी): एअर इंडिया ने अपने ओवरवेट 57 क्रू मेंबर्स को फ्लाइंग ड्यूटी से हटा दिया है। अब इनसे ग्राउंड स्टॉफ के साथ काम लिया जाएगा।

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, क्रू को शेप में आने के लिए तीन महीने का वक्त दिया गया था, लेकिन वे इसमें नाकाम रहे। इसमें ज्यादातर एयरहोस्टेस शामिल हैं।

- बता दें कि डेढ़ साल पहले भी सरकारी एयरलाइंस ने 125 क्रू को फ्लाइंग ड्यूटी से हटाया था।

- एयरलाइन्स के सूत्रों ने कहा कि इन क्रू मेंबर्स को वजन कम कर फिटनेस बरकरार रखने के लिए टाइमलाइन दी गई थी। ऐसा नहीं कर पाने पर सभी को परमानेंट ग्राउंड ड्यूटी में लगाया गया है। इनमें कुछ एयरहोस्टेस भी शामिल हैं।

- एअर इंडिया में 3,800 से ज्यादा केबिन क्रू मेंबर हैं, जिनमें से 2,500 महिलाएं हैं।

- डेढ़ साल में यह दूसरी बार है, जब एअर इंडिया ने ओवरवेट क्रू की ड्यूटी बदली। सितंबर, 2015 में भी इसी तरह 125 क्रू को ग्राउंड ड्यूटी में लगा दिया था। ये सभी फ्लाइंग के लिए जारी गाइडलाइन्स को पूरा 

नहीं कर पाए थे।

- एविएशन अथॉरिटी डीजीसीए की गाइडलाइन के मुताबिक, कुछ महीनों के अंतराल पर डाक्टर्स की टीम क्रू मेंबर का मेडिकल एग्जामिनेशन करती है। जो उन्हें फिट, टेम्परेरी फिट और परमानेंट अनफिट डिक्लेयर करती है।

- क्रू में शामिल पुरुषों के लिए नार्मल बॉडी मास इंडेक्स (BMI) 18-25 और महिलाओं के लिए 18-22 फिक्स होता है।

- 25-29.9 बीएमआई वाले पुरुषों को ओवरवेट और 30 से ज्यादा होने पर उन्हें मोटापे का शिकार माना जाता है। जबकि महिला क्रू के लिए ओवरवेट की लिमिट 22-27 और इससे ज्यादा होने पर मोटा माना गया है।

- नियम के मुताबिक, ओवरवेट वाले क्रू मेंबर्स को टेम्परेरी अनफिट माना जाता है और उन्हें शेप में आने के लिए तीन महीने का वक्त दिया जाता है।

- हालांकि टेम्परेरी अनफिट टैग के साथ वो 19 महीने तक फ्लाइंग ड्यूटी कर सकते हैं। इस दौरान उन्होंने बीएमआई मेंटेन नहीं किया तो परमानेंट अनफिट डिक्लेयर कर दिए जाते हैं।