एयर इंडिया की महिला पायलट ने बचाई 261 लोगों की जान

नई दिल्ली (12 फरवरी): एयर इंडिया की महिला पायलट की बहादुरी के चलते करीब 261 लोगों की जान बच गई। बताया जा रहा है कि विस्तारा और एयर इंडिया की फ्लाइट 7 फरवरी को आपस में टकरा जाती, लेकिन पायलट अनुपमा कोहली के अनुभव ने बड़ा हादसा होने से बचा लिया।

जांच के दौरान पता चला कि एयर ट्रैफिक कंट्रोलर्स (एटीसी) की तरफ से कोऑर्डिनेशन में कुछ दिक्कत हुई। एयर इंडिया का विमान संख्या A-319 मुंबई से भोपाल के और विस्तारा का विमान संख्या A-320 दिल्ली से पुणे के लिए उड़ान भर रही थी। दोनों विमान एक-दूसरे के काफी निकट आ गए थे।

विस्तारा निर्धारित ऊंचाई 29 हजार के लेवल पर और एयर इंडिया की फ्लाइट 27,100 फीट की ऊंचाई पर था। एयर इंडिया के विमान की कप्तान महिला पायलट अनुपमा कोहली थीं। अनुपमा कोहली के पास विमान उड़ाने का 20 साल से अधिक लंबा अनुभव है। कोहली ने देखा कि उनके विमान की दिशा में विस्तारा का विमान रहा है। कोहली ने जब विस्तारा के विमान को इस तरफ आते देखा तो उन्होंने दाहिनी तरफ मुड़कर विमान के उड़ान के लिए जगह बना दी और अपने विमान को थोड़ा नीचे कर लिया। इस तरह दोनों विमान के यात्री सुरक्षित बच गए।

पायलट कोहली के त्वरित निर्णय लेने की क्षमता और कुशलता से स्थिति संभालने के लिए एयर इंडिया ने काफी तारीफ की। विस्तारा एयरलाइंस की तरफ से इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। एयरलाइंस का कहना है कि पायलट का टॉइलट ब्रेक नियमानुसार ही था और हमारा विमान निर्देश के अनुसार ही उड़ान भर रहा था।